हिंडौन सिटी कोरोना महामारी में आमजन को बचाने के लिए सरकार ने त्रिस्तरीय जनअनुशासन पखवाड़ा लागू किया हुआ है। इसके तहत आवश्यक गाइडलाइन जारी की हुई है। इस गाइडलाइन की धज्जियां उड़ाते हुए रोक के बाद भी प्याज की कचौरियां बेचने वाले तीन जनों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। इन तीनों के खिलाफ पुलिस ने राजस्थान महामारी अधिनियम 2020 की धारा 51 बी एवं आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के तहत केस पंजीबद्ध किया है। डीएसपी किशोरी लाल ने बताया कि पुलिस अधीक्षक मृदुल कच्छावा ने जिले में धारा 144 एवं त्रिस्तरीय जनअनुशासन पखवाडे का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए हुए हैं। इसके बाद भी कुछ लोग सरकार की गाइडलाइन का उल्लंघन कर आमजन के लिए महामारी का खतरा पैदा करने में लगे हुए हैं। इस संबंध में पुलिस को सूचना मिली कि बयाना मोड़ के पास संचालित जोधपुर मिष्ठान भंडार में प्याज की कचौरियां बनाकर लोगों को बेची जा रही हैं। डीएसपी किशोरी लाल के निर्देश पर थानाप्रभारी गिर्राज प्रसाद पुलिस दल के साथ मौके पर पहुंचे तो जोधपुर मिष्ठान भंडार की दुकान के पीछे गोदाम में भट्टी पर कचौरियां बनाते एवं बेचते हुए तीन जने मिले, जिन्हें पुलिस ने आमजन के जीवन से खिलवाड़ करने एवं सरकार की ओर से घोषित गाइडलाइन का उल्लंघन करने पर गिरफ्तार कर लिया। डीएसपी किशोरी लाल ने बताया कि गिरफ्तार किए गए तीन जनों में जोधपुर मिष्ठान भंडार का संचालक नागौर के गांव नारवा खींवसर का निवासी सुमेर पुत्र नारायण सिंह राजपुरोहित, उसका सहयोगी कर्मचारी जोधपुर के लोहावट निवासी प्रताप सिंह पुत्र महाराज सिंह राजपूत व बाड़मेर के परालिया निवासी उम्मेद सिंह पुत्र दुर्गसिंह राजपूत शामिल है। डीएसपी ने बताया कि इन तीनों के खिलाफ राजस्थान महामारी अधिनियम 2020 की धारा 51 बी एवं आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के तहत कर केस दर्ज कर अनुसंधान शुरू किया गया है।