16 C
Jaipur
Thursday, November 26, 2020
Home Tags #shrikrishan

Tag: #shrikrishan

पढ़े: यर्थाथ गीता के दूसरे अध्याय के 51 से 60 तक...

कर्मजं बुद्धियुक्ता हि फलं त्यक्त्वा मनीषिण:।जन्मबन्धविनिर्मुक्ता: पदं गच्छन्त्यनामयम्।।51।। बुद्धियोग से युक्त ज्ञानीजन कर्मों से उत्पन्न होनेवाले फल को...

पढ़े: यर्थाथ गीता के दूसरे अध्याय के 41 से 50 तक...

व्यवसायात्मिका बुद्धिरेकेह कुरूनन्दन।बहुशाखा हाृनन्ताश्च बुद्धयोडव्यवसायिनाम्।।41।। अर्जुन! इस निष्काम कर्मयोग में क्रियात्मिका बुद्धि एक ही है। क्रिया एक है...
- Advertisement -

MOST POPULAR

HOT NEWS