25 C
Jaipur
Friday, April 23, 2021
Home Tags #Chapter21to30

Tag: #Chapter21to30

पढ़े: यर्थाथ गीता के दूसरे अध्याय के 21 से 30 तक...

वेदाविनाशिनं नित्यं य एनमजमव्ययम्।कथं स पुरूष: पार्थ कं घातयति हन्ति कम्।।21।।पार्थिव शरीर को रथ बनाकर ब्रहा्ररूपी लक्ष्य पर अचूक निशाना लगानेवाला...
- Advertisement -

MOST POPULAR

HOT NEWS