कालसर्प दोष दूर करने के लिए अमावस्या के दिन करें ये उपाय, साथ ही रोजगार के लिए…

0
26

मरूधर बुलेटिन न्यूज डेस्क। हिन्दू धर्म में अमावस्या का भी बहुत महत्व है। ये दिन अपने पित्ररों को याद करने वाला दिन होता है। इस दिन किया गया घाट स्नान, तर्पण और दान का काफी महत्व है। इस दिन किए गए दान से पित्रर दोष दूर होते है। साथ ही पित्ररों का आर्शिवाद हमेशा बना रहता है और हमेशा सुख शांति बनी रहेगी। इसी बीच बता दें कि भाद्रपद की अमावस्या का काफी महत्व है। इस बार 18 अगस्त को अमावस्या आ रही है। बहरहाल इसी बीच अमावस्या के दिन कुछ उपाय के जरिए आप सामने आ रहे संकट, परेशानी से राहत पा सकते है, तो आइए ​जानिए अमावस्या को किए जाने वाले उपायों के बारें में…

इस दिन प्रातकाल जल्दी उठकर सभी नित्यक्रमों से निवृत होकर आटे की गोलियां बनाएं। गोलियां बनाते समय भगवान का नाम लेते रहें। इसके बाद किसी तालाब या नदी में जाकर ये आटे की गोलियां मछलियों को खिला दें। ऐसा करने से पितृ खुश होगे और आपके सामने आ रही परेशानियां दूर होगी। साथ ही अगर रोजगार पाने में कुछ समस्या आ रही है तो इस दिन भोजन से पूर्व गाय, कुत्ता और पक्षी हेतु भोजन का कुछ अंश निकाल कर इन्हे खिला दें। जल्द ही रोजगार में आ रहा संकट दूर होगा।

साथ ही अमावस्या के दिन सरसों के तेल में मीठे आटे के पुए बनाए और गरीबों को दान करे।ऐसा करने से शनि संबंधी बाधाएं जल्दी ही दूर होगी। इसके अलावा अगर आप कालसर्प दोष से पीड़ित है तो इस दिन सुबह स्नान के बाद चांदी से निर्मित नाग-नागिन की पूजा करें और उसके बाद सफेद पुष्प के साथ इसे बहते हुए जल में प्रवाहित कर दें। कालसर्प दोष से जल्द ही राहत मिलेगी। अमावस्या के दिन भूलकर भी मांस आदि का सेवन नहीं करना चाहिए। ऐसा करने से पितृ नाराज होते है। साथ ही इस दिन भूलकर भी शराब, मदीरा का पान भी निषेध माना गया है।