डेस्क न्यूज़: राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को मंगलवार को उस समय शर्मिंदा होना पड़ा, जब उन्होंने शिक्षकों की तबादला-तैनाती में रिश्वतखोरी के बारे में एक सवाल पूछा। CM गहलोत ने जब शिक्षकों से सवाल किया तो सभी शिक्षकों ने एक स्वर में कहा कि ट्रांसफर पोस्टिंग के लिए उन्हें रिश्वत देनी पड़ती है। इस दौरान राजस्थान के शिक्षा मंत्री गोविंद डोटसरा भी कार्यक्रम में मौजूद रहे। शिक्षकों ने बताया कि उन्हें स्थानीय विधायकों के माध्यम से तबादला पोस्टिंग के लिए पैरवी करनी पड़ती है और इसके लिए उन्हें रिश्वत भी देनी पड़ती है।

अशोक गहलोत का वीडियो सोशल मीडिया पर हुआ वायरल

सोशल मीडिया पर अशोक गेहलोत के सवाल और उस पर शिक्षकों के जवाब से जुड़ा एक वीडियो भी वायरल हो रहा है। इसमें गहलोत शिक्षकों के बीच ट्रांसफर-पोस्टिंग के लिए रिश्वत देने के मुद्दे पर सवाल उठाते नजर आए और उन्हें भीड़ से हां सुनने को मिली।

अशोक गहलोत ने शिक्षकों को दिया आश्वासन

शिक्षकों का जवाब सुनकर गहलोत कुछ पल के लिए दंग रह गए, लेकिन फिर उन्होंने आश्वासन दिया कि वह इस मामले को देखेंगे। उन्होंने कहा कि यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है कि शिक्षकों को स्थानांतरण पोस्टिंग के लिए भुगतान करना पड़ रहा है। इसके बाद शिक्षा मंत्री डोटसरा ने अपने संबोधन में कहा कि शिक्षकों के तबादले को लेकर नीति बनाकर जल्द ही इन विसंगतियों को दूर किया जाएगा।

BJP को कांग्रेस सरकार के खिलाफ मिला हथियार

हालांकि इस वीडियो ने विपक्षी पार्टी बीजेपी को कांग्रेस सरकार के खिलाफ एक नया हथियार दे दिया है। राजस्थान में 2023 में विधानसभा चुनाव होने हैं। पार्टी राजस्थान में शिक्षक पात्रता परीक्षा में धांधली के आरोप को लेकर भी सरकार पर निशाना साध रही है।

मुंबई एयरपोर्ट पर Hardik Pandya की करोड़ों की घड़ियां जब्त

Follow us on:

Facebook

Instagram

YouTube

Twitter