Isfurti Singh – राजस्थान के नागौर में चौंकाने वाली खगोलीय घटना का वीडियो सामने आया है। यहां आसमान से जमीन पर आग के गोले गिरते देखे गए। इसे उल्का पिंड या टूटता तारा कहते हैं, लेकिन इनमें से ज्यादातर जमीन पर पहुंचने से पहले ही हवा में जलकर नष्ट हो जाते हैं। पहली बार लोगों ने इन्हें जमीन से टकराते हुए देखा।

दैनिक भास्कर टीम को जब इसका वीडियो मिला तो इसे लद्दाख के साइंटिस्ट के पास भेजा गया। वैज्ञानिक भी इसे देखकर दंग रह गए। उन्होंने बताया कि ये कोई सामान्य घटना नहीं, बल्कि बड़ी खगोलीय घटना है।

यह वाकया नागौर जिले के बड़ायली गांव का है। मामले की जानकारी और इससे जुड़े फैक्ट जुटाने के लिए भास्कर टीम गांव पहुंची। यहां मौजूद लोगों से बातचीत की तो उन्होंने बताया कि देर रात अचानक तेज धमाके की आवाज के साथ चमकती हुई रोशनी दिखी।

दो दिन पहले देर रात हुई यह पूरी खगोलीय घटना खेत के सामने बने एक होटल के CCTV में कैद हुई। वीडियो में दिख रहा है कि आसमान में पहले तेज रोशनी होती है। इसके बाद तेज धमाके के साथ जलते गोले जमीन पर गिर जाते हैं। यह उल्का पिंड था, जो जलता हुआ एक खेत में जा गिरा। हालांकि, यहां के लोगों ने बताया कि इससे कोई नुकसान नहीं हुआ है। न ही मौके पर इसके निशान मिले हैं।

लेह-लद्दाख साइंटिस्ट टीम को भेजे वीडियो
इस पूरी घटना का वीडियो सामने आने के बाद टीम ने इसे लेह-लद्दाख में इंडियन एस्ट्रोनॉमिकल ऑब्जर्वेटरी हेड से इसे शेयर किया। पहले उन्होंने बताया कि इस तरह की घटना होती रहती हैं, जो सामान्य हैं, लेकिन जब उन्होंने ये वीडियो देखा तो वे भी चौंक गए। उन्होंने बताया कि ये नॉर्मल क्वाड्रेटिड्स शावर (उल्का पिंड) से काफी बड़ा था। गनीमत थी कि ये हवा में ही फट गया। उन्होंने बताया कि इस वीडियो के आधार पर उन्होंने रिसर्च शुरू कर दी है। रिसर्च पूरी होते ही इसकी जानकारी वे शेयर करेंगे।

धरती का गुरुत्वाकर्षण बल इन्हें अपनी ओर खींचता है
मौसम एक्सपर्ट नीलेश पुरोहित ने बताया कि इस तरह के वीडियो काफी कम देखने को मिलते हैं। उन्होंने बताया कि अंतरिक्ष में उल्का पिंड, जिसे हम टूटता तारा भी कहते हैं, वे हमेशा मौजूद रहते हैं। धरती अपने गुरुत्वाकर्षण से उसे अपने पास खींचती रहती है।

2020 में जालोर में गिरा था ऐसा उल्का पिंड, जमीन में 5 फीट नीचे धंस गया था
ऐसी ही घटना फरवरी 2020 में जालोर जिले के सांचौर में सामने आई थी। 2.778 किलोग्राम वजनी उल्का पिंड जमीन से टकरा गया। जहां ये आकर गिरा था वहां 5 फीट का गड्‌ढा हो गया। इस घटना में पिंड का धातु की तरह दिखने वाला एक टुकड़ा भी मिला था। जो काफी गरम था।