Lucknow: राजस्थान का बेरोज़गार युवा अपनी मांगो को लेकर उत्तर प्रदेश में बैठा है। लखनऊ में भी बेरोज़गारों को 4 दिन हो गए है लेकिन अभी भी प्रियंका गांधी का बेसब्री से इंतजार है। अभी भी इस आस में बेरोजगार बैठे है कि प्रियंका गांधी से उनकी मुलाकात हो जाए और अपनी व्यथा उनके सामने रख सके। बेरोजगार एकीकृत महासंघ के प्रदेशाध्यक्ष उपेन यादव के नेतृत्व में बेरोज़गार युवा पिछले 4 दिन से लखनऊ में कांग्रेस कार्यलय के बाहर धरना प्रदर्शन कर रहे है। वहीं अनशन पर बैठे कुछ छात्रों की तबीयत भी बिगड़ने लगी है। कड़कड़ाती ठंड में जहां भी जगह मिल रही है ये वही बेरोजगार वहीं सो रहे है। कोई टेबल के नीचे सो रहा है तो कोई होर्डिंग्स के नीचे सो रहा है। लेकिन इनके इरादे साफ है जब तक जीतेंगे नही लड़ते रहेंगे। वरना हमारी लाशें ही राजस्थान जाएगी। 4 दिन से लखनऊ में कांग्रेस कार्यालय के बाहर अनशन जारी है तो वहीं जयपुर के शहीद स्मारक पर भी लंबे समय से बेरोज़गारों का धरना प्रदर्शन चल रहा है। अब इन पर भाजपा के एजेंट होने के भी आरोप लगने लगे है। उपेन यादव का कहना है उनपर ब्लैकमेलर होने के , पार्टी से टिकट मांगने के आरोप लगाए जा रहे है। लेकिन इन आरोपों को अगर कोई साबित कर दे तो बेरोज़गार धरने पर से उठ जाएंगे। यादव ने कहा कि जब आज युवा अपनी मांगो को उठा रहा है, अपना हक मांग रहा है तो उन्हें ब्लैकमेलर, एजेंट बुलाया जा रहा है। जब हम कांग्रेस को समर्थन दे रहे थे, मिल रहे थे तब हम एजेंट या दलाल नही थे। उपेन यादव ने आगे कहा कि राज्य सरकार के पास अभी भी समय है बेरोज़गारों की मांगो को माने नही तो आने वाले चुनावी समय में ये युवा कांग्रेस सरकार पर भारी पडेंगे।