राजस्थान: भीलवाड़ा में हुआ high alert, CM ने केंद्र सरकार से मांगा सहयोग

0
91
bhilwara

मरूधर बुलेटिन न्यूज डेस्क। राजस्थान का भीलवाड़ा करीब चार लाख की आबादी का शहर है, यह शहर भारत में कोरोना वायरस का epicenter साबित हो सकता है। जिसके बाद भीलवाड़ा में कुल संक्रमित लोगों की संख्या 24 पहुंच गई है। इसके साथ शनिवार को एक मामला अजमेर में भी सामने आया है। भीलवाड़ा में कम्यूनिटी इंफेक्शन का खतरा बढ़ता जा रहा है। भीलवाड़ा में गुरुवार को दो की मौत हो चुकी है। इससे दहशत और बढ़ गई। भीलवाड़ा की भी सीमाएं सील हो चुकी हैं, इसके बावजूद कोरोना के खौफ के कारण बड़ी संख्या में लोग भागकर दूसरे जिलों में जा पहुंचे जिससे कम्यूनिटी इंफेक्शन का खतरा हो सकता है। अब तक प्रदेश में कुल 54 कोरोना पॉजिटिव पाए गए, जिनमें से अकेले भीलवाड़ा में ही 24 हैं। इस लिहाज से ये देश का सबसे संवेदनशील जिला हो गया है।

यहां रहने वाले लोगों में इस बात का डर है कि दोनों मृतकों के दो-दो परिजनों की कोरोना रिपोर्ट भी पोजिटिव आई है जिन्हें आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है। और इसी बीच उनसे मिलने भी कई लोग उनके घर गए थे। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा ने बताया कि भीलवाड़ा में 24 लाख लोगों की स्क्रीनिंग का काम वहां मौजूद चिकित्सा विभाग की टीम कर रही है। वहीं 1950 लोगों की टीम ग्रामीण क्षेत्रों में और 332 लोगों की टीम शहरी क्षेत्रों में काम कर रही है। शहर में तो 20 लोग ऐसे हैं, जिनकी दो-दो बार स्क्रीनिंग हुई है। कह सकते हैं कि हालात काबू में है।

हालातों के मद्देनज़र राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने कोरोना संकट को लेकर PM नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह से फोन पर बात की। सीएम ने मोदी से कोरोना संकट से निपटने के लिए केन्द्र से सहयोग का आग्रह किया साथ ही कोरोना से निपटने के लिए किए जा रहे काम से अवगत भी करवाया। लॉकडाउन की सख्ती से पालना के साथ-साथ जरूरतमंदों की आर्थिक और सामाजिक सुरक्षा के लिए राज्य सरकार ने 2 हजार करोड़ रुपये का आर्थिक पैकेज घोषित किया है। गहलोत ने कहा कि हमने संकल्प लिया है कि प्रदेश में एक भी व्यक्ति लॉकडाउन की वजह से भूखा नहीं सोए।