नकली पनीर का धंधा करने वाले आरोपियों को पुलिस ने दबोचा…

0
159

मरुधर बुलेटिन न्यूज़ डेस्क। पनीर का नाम सुनते ही सभी के मुहं में पानी आ जाता है। अक्सर रसोई में इसे तरह तरह के व्ंयजन बनाने के काम में लिया जाता है। लेकिन अगर आप भी पनीर खरीदने के लिए दुकान पर जा रहे है तो होशियार हो जाईए। जिस पनीर का आप जायका उठाकर खा रहे है कहीं असल में वो ज़हर तो नही। MB NEWS का मकसद आपको डराना नही बल्कि सावधान करना है। आज हम आपको पनीर के उस ज़हरीले खेल के बारे में बताने जा रहे है जो बाजार के रास्ते आपके खाने में जा रहा है। झूंझनू पुलिस ने बडी कार्रवाई करते हुए नकली पनीर की सप्लाई करने वाली दो गाडियां पकडी है। पुलिस ने जांच के लिए जब गाडियों को रोका तो उसमें लगभग 700 किलो पनीर मिला जिसमें से गंध आ रही थी। जांच करने के बाद पता चला कि पनीर नकली था। नकली पनीर से भरी दोनों गाडियों को पुलिस ने नाकाबंदी कर सिंघाना में पकड़ा। इस पनीर की सप्लाई सिंघाना से नवलगढ़ में होनी थी। स्वास्थ्य विभाग की मदद से इस जानलेवा नकली पनीर को नष्ट कर दिया गया है। जबकि दोनों वाहनों को जब्त कर लिया गया है और पांच मुजरिमों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है।

मौत के इन सौदागरों को तो पुलिस ने गिरफ्त में ले लिया है। लेकिन खतरा अभी टला नही है। क्योंकि ये नकली पनीर का काला कारोबार कहां तक फैला हुआ है इसका कुछ पता नही है। नकली पनीर कई तरह के पाउडर और हानिकारक तत्वों को मिलाकर बनाया जाता है । इस पनीर को खाने से आतों में संक्रमण हो सकता है। इससे आपकी पाचन क्रिया पर भी असर पडता है। इसका सेवन करने से शारीरिक विकास रुक जाता है वहीं भविष्य में कैंसर जैसी बीमारी भी हो सकती है। फूड डिपार्टमेंट इस ओर कोई खास ध्यान नही देता है और पनीर की सैंप्लिंग कर इतिश्री कर लेता है। जिसके बाद में भी कोई ठोस कार्रवाई नही होती है। त्यौहार का सीजन आने से पहले इसकी सैंप्लिंग की जाती है जबकि रिपोर्ट पूरा सीजन खत्म होने के बाद तक आती है। तब तक लोग इस पनीर का सेवन कर चुके होते है। इसलिए फूड डिपार्टमेट की कार्रवाई से कुछ नही होना है और ऐसे में आम जनता को खुद आगे आना होगा और ये सुनिश्चित करना होगा कि जो पनीर आप खरीद रहे हैं वो असली है या नकली। लेकिन बडा सवाल ये है कि नकली और असली पनीर की जांच कैसे करें। जब भी आप दुकान पर पनीर खरीदने जाएं तो उसे हाथ में लेकर मसल कर देखें नकली पनीर दानेदार होगा और वह टूटकर गिर जाएगा। नकली पनीर का टैक्स्चर रबड की तरह होता है और वह खाते समय खींचता है। वहीं असली पनीर खाने में सोफ्ट होता है। पनीर खरीदते समय इन चीजों का विशेष ध्यान रखें। फूड डिपार्टमेंट के भरोसे न बैठकर अब आम जनता को ही जागरुक होना होगा।