शनिवार को प्रदेश में आए संक्रमण के 48 नए मामले, डूंगरपुर और पाली जिले में रिकवरी रेट बेहद कम…

0
33
rajasthan

मरुधर बुलेटिन न्यूज़ डेस्क। राजस्थान में कोरोना संक्रमण के आंकड़ों में लगातार बढ़ोतरी होती जा रही है। शनिवार को प्रदेश में कोरोना संक्रमण के 48 नए मामले दर्ज किए गए हैं। इसके साथ ही प्रदेश में संक्रमण का आंकड़ा 6500 के पार निकल गया है। वहीं, शनिवार को संक्रमण से 2 मरीजों की मृत्यु भी हो गई है। आज संक्रमण के सबसे ज्यादा मामले नागौर में आए हैं। आज नागौर में 17 कोटा में 10, झुंझुनू में 6 जयपुर में पांच, झालावाड़ में चार, धौलपुर में दो, अजमेर, भरतपुर, भीलवाड़ा और बांसवाड़ा में कोरोना संक्रमण का एक-एक पॉजिटिव सामने आया है। इसके साथ ही प्रदेश में कोरोना संक्रमण का आंकड़ा 6 हजार 542 पर पहुंच गया है। इनमें दो इटली के नागरिक, 61 विस्थापित और 50 बीएसएफ के जवान भी शामिल है। वहीं, शनिवार को कोटा और जयपुर में संक्रमण से एक-एक व्यक्ति ने अपनी जान गवां दी है। इसके साथ ही प्रदेश में कोरोना संक्रमण से मरने वालों की संख्या 155 हो गई है।

बहरहाल, बता दें कि प्रदेश में अभी तक कोरोना संक्रमण के सबसे ज्यादा मामले जयपुर में सामने आए हैं। जयपुर में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 1720 हो गई है। जबकि संक्रमण से मरने वालों की संख्या 76 हो गई है। हालांकि जयपुर में मरीजों का रिकवरी रेट काफी बेहतर है। अभी तक कोरोना संक्रमण को हराकर 1106 लोग रिकवर हो चुके हैं। अब जयपुर में कोरोना के 538 एक्टिव केस बचे हैं। जयपुर के बाद जोधपुर जिले में कोरोना संक्रमण के सबसे ज्यादा मामले सामने आए हैं। जोधपुर में संक्रमण के 1163 मामले सामने आ चुके हैं। जिनमें से 861 मरीज बिल्कुल स्वस्थ हो चुके हैं और अब जिले में 285 एक्टिव केस हैं। बता दें कि डूंगरपुर और पाली जिले में प्रवासियों के राजस्थान आने से कोरोना संक्रमण के मामलों में तेजी से इजाफा हुआ है। दोनों ही जिलों में रिकवरी रेट बेहद कम है। डूंगरपुर में संक्रमण के 302 केस सामने आए हैं जिनमें से अभी तक सिर्फ 8 मरीज रिकवर हो पाए हैं। वहीं, पाली में 257 संक्रमण के मामले सामने आए हैं जिनमें से 59 मरीज स्वस्थ हो गए हैं जबकि 193 अभी एक्टिव के साथ जिनका अस्पताल में इलाज चल रहा है। बता दें कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण से 3692 मरीज बिल्कुल स्वस्थ हो गए हैं। जिनमें से 3258 को अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया है। यह जानकारी राजस्थान राज्य स्वास्थ्य मंत्रालय के द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार है।