दलित अत्याचार मामले की रिपोर्ट कांग्रेस आलाकमान को सौंपेंगे पायलट …

0
80

मरुधर बुलेटिन न्यूज़ डेस्क। राजस्थान के नागौर जिले के करणू गांव में दलित युवकों के साथ की गई अमानवीयता के मामले ने प्रदेश सरकार के साथ देश की राजनीति में भी खलबली मचा दी है। प्रदेश के नागौर जिले में दलित युवकों के साथ दंबगों द्वारा किये गए जघन्य अपराध की पूरे देश में चर्चा हो रही है। साथ ही प्रदेश की गहलोत सरकार की कानून व्यवस्था भी सवालों के घेरे में लाकर खडी कर दी गई है। जिसके बाद कांग्रेस आला कमान ने इस पूरे मामले की रिपोर्ट मांगी है। मिली जानकारी के अनुसार प्रदेश में घटी इस घटना के बाद कांग्रेस आला कमान बेहद नाराज है और ये मामला राष्ट्रीय स्तर पर उछलने के बाद डिप्टी सीएम सचिन पायलट को निर्देश देते हुए मामले की जांच कर रिपोर्ट तत्काल भेजने को कहा गया है। वहीं घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी इस घटना की कड़ी निंदा करते हुए दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने को कहा था।

इस घटना के बाद विपक्ष ने राजस्थान में कांग्रेस सरकार को निशाना बना लिया है। विपक्ष के मंत्रियों का कहना है कि प्रदेश में कांग्रेस सरकार के आने के बाद से अपराध बहुत अधिक बढ़ गए है। प्रदेश में कानून-व्यवस्था नाम की कोई चीज नही है। जिसके बाद कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के निर्देश पर कांग्रेस का प्रतिनिधिंडल शुक्रवार को पीडितों से मिलने नागौर पहुंचा। नागौर पहुंचे प्रतिनिधिंडल ने पीड़ितों के परिवार वालों , पुलिस प्रशासन व अधिकारियों से मुलाकात की । आज भी प्रतिनिधिंडल पीड़ितों से मिलने उनके गांव जाएगा। कांग्रेस के इस प्रतिनिधिमंडल में कैबिनेट मंत्री मास्टर भंवरलाल मेघवाल , हरिश चौधरी ,विधायक हरीश मीणा , संगठन महामंत्री महेश शर्मा व पूर्व सासंद ज्योति मिर्धा शामिल है। मिली जानकारी के अनुसार प्रतिनिधिंडल आज शाम तक अपनी रिपोर्ट बंद लिफाफे में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट को सौंप देगा जिसके बाद पायलट ये रिपोर्ट कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और संगठन महामंत्री केसी वेणुगोपाल को सौपेंगे। बता दें कि , शुक्रवार को पीड़ित युवकों के परिवार से मिलने पहुंचे कांग्रेस प्रतिनिधिंडल के सामने पीड़ित परिवार ने जांच अधिकारी बदलने व सुरक्षा उपलब्ध कराने की मांग रखी थी जिसे तुरंत स्वीकार कर लिया गया।