Isfurti Singh – लखीमपुर खीरी हिंसा के आज 90 दिन पूरे हो चुके हैं। मामले में SIT ने न्यायालय में आरोप पत्र दाखिल कर दिया है। सूत्रों के हवाले से पता चला है कि यह चार्जशीट 5 हजार पन्ने की है। इसमें केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के रिश्तेदार वीरेंद्र कुमार शुक्ला का नाम जोड़ा गया है। वीरेंद्र कुमार शुक्ला पर साक्ष्य मिटाने की धारा 201 के तहत आरोप दायर किए गए हैं। कोर्टरूम के बाहर मीडिया से बातचीत में किसानों के वकील ने बताया कि चार्जशीट में मंत्री अजय मिश्रा का नाम जोड़ने की अर्जी भी दी गई थी, लेकिन चार्जशीट में उनका नाम नहीं जोड़ा गया है।

लखीमपुर के तुकनिया में 3 अक्टूबर को एक पत्रकार समेत 8 लोगों की मौत हो गई थी। इसमें दोनों तरफ से मुकदमा दर्ज कराया गया था। मामले की जांच उत्तर प्रदेश SIT कर रही है। इस केस में मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा मोनू समेत 13 लोग न्यायिक हिरासत में जेल में बंद हैं। आशीष मिश्रा की जमानत याचिका पर 6 जनवरी को सुनवाई होनी है।

किसानों के वकील ने धारा बढ़ाने की जानकारी दी
तिकोनिया हिंसा मामले में किसानों के अधिवक्ता अमान ने बताया कि एफआईआर में 201 धारा की बढ़ोतरी की गई है। साथ ही वीरेंद्र कुमार शुक्ला के नाम को जोड़ा गया है। मंत्री का भी नाम जोड़ने की प्रार्थना की गई, लेकिन उनका नाम नहीं जोड़ा गया है।

आशीष मिश्रा पर मोटर व्हीकल और आर्म्स एक्ट के तहत आरोप
आशीष मिश्र मोनू और सहयोगी नंदन सिंह पर धारा 177 (मोटर व्हीकल एक्ट) और 5/25 (आर्म्स एक्ट) के तहत आरोप लगाए गए हैं। अभी तक आरोपियों को चार्जशीट नहीं दिखाई गई है। न्यायालय द्वारा आरोपपत्र का संज्ञान लेते ही सेक्शन 309 के तहत सभी आरोपियों को कोर्ट में तलब करेगा और चार्जशीट की कॉपी दी जाएगी।