शहीद अश्विनी यादव का पार्थिव शरीर लाया गया पैतृक गांव, अंतिम विदाई के लिए उमड़े लोग…

0
202
martyr ashwani kumar yadav

मरुधर बुलेटिन न्यूज़ डेस्क। जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा में हुए आतंकी हमले में उत्तर प्रदेश के गाजीपुर में रहने वाले जवान अश्विनी कुमार यादव शहीद हो गए थे। बुधवार को शहीद जवान अश्विनी कुमार यादव का पार्थिव शरीर उनके पैतृक गांव चक दाऊद लाया गया। शहीद जवान को अंतिम विदाई देने के लिए लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा। सभी लोग भारत माता की जय और वंदे मातरम के नारे लगाते हुए दिखाई दिए। इस दौरान कई लोगों ने तिरंगा भी लहराया और शहीद जवान अश्वनी कुमार यादव अमर रहे के नारे भी लगाए। हालांकि, इस दौरान देश में फैले कोरोना संकट के चलते लोगों ने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं किया । बता दें कि, शहीद के घर वालों का रो-रो कर बुरा हाल है। शहीद की पत्नी बेसुध होकर बस रो रही है।

बता दें कि, मंगलवार को खराब मौसम के कारण शहीद जवान का पार्थिव शरीर दिल्ली से गाजीपुर नहीं लाया जा सका था। जिसके बाद बुधवार सुबह शहीद जवान का पार्थिव शरीर चार्टर्ड प्लेन के द्वारा वाराणसी के लाल बहादुर शास्त्री एयरपोर्ट पर लाया गया जहां पुलिस व सीआरपीएफ अफसरों ने शहीद जवान को गार्ड ऑफ ऑनर और श्रद्धांजलि दी। जिसके बाद शहीद का पार्थिव शरीर सड़क मार्ग के द्वारा उनके पैतृक गांव ले जाया गया। बता दें कि शहीद अश्विनी कुमार यादव के परिवार में दो छोटे भाई अंजनी और अमन है। शहीद जवान का विवाह साल 2012 में हुआ था। उनकी पत्नी का नाम अंशु देवी है और उनकी 6 साल की बेटी परी और 3 साल का बेटा आदित्य है। सीआरपीएफ जवान अश्विनी कुमार यादव की शहादत की खबर मिलने पर उनके पैतृक गांव में शोक की लहर दौड़ गई। जिसके बाद शहीद के घर पर संवेदना व्यक्त करने वालों की भीड़ उमड़ पड़ी। बता दें कि उत्तर प्रदेश की योगी सरकार की तरफ से शहीद के परिवार को ₹25 लाख रुपए की आर्थिक सहायता दी गई है। शहीद की पत्नी को 20 लाख व मां को 5 लाख का चेक सौंपा गया है।