सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी,हिज्बुल मुजाहिदीन का टॉप कमांडर ढेर…

0
35
riyaz naikoo

मरुधर बुलेटिन न्यूज़ डेस्क। कश्मीर घाटी में आतंकवाद का खात्मा करने के लिए लड़ रहे सुरक्षाबलों को बुधवार दोपहर बड़ी कामयाबी मिली है। जम्मू कश्मीर में आतंक का पर्याय बन चुके हिजबुल के टॉप कमांडर रियाज नायकू को सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में ढेर कर दिया है। अवंतीपोरा में दो अलग-अलग जगहों पर चल रही मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने आतंकवाद के सरगना बन चुके रियाज नायकू को मार गिराया है। इसके अलावा कई अन्य आतंकवादियों के मारे जाने की भी जानकारी मिली है। बता दें कि, रियाज नायकू पर 12 लाख रुपए का इनाम था। दरअसल, सुरक्षाबलों को खबर मिली थी कि रियाज नाएकु अपने पैतृक गांव बेगी पूरा में आया हुआ है। जिसके बाद सुरक्षाबलों ने पूरे इलाके को घेर लिया। हालांकि, शुरुआत में घेराबंदी होने के बाद किसी भी तरह की फायरिंग नहीं हुई लेकिन सुरक्षाबलों ने घेराबंदी नहीं हटाई। जिसके बाद बुधवार सुबह आतंकियों ने फायरिंग शुरू कर दी।

मिली जानकारी के अनुसार, रियाज नायकू के साथ दो तीन आतंकवादी और मौजूद थे। उसके साथ मारे गए दूसरे आतंकियों की पहचान अभी नहीं हो पाई है। अवंतीपोरा के बेगीपोरा में अभी कई आतंकियों की मौजूदगी बताई जा रही है। जिस वजह से सुरक्षाबलों और आतंकवादियों के बीच अभी भी मुठभेड़ जारी है। बता दें कि, रियाज नायकू के मारे जाने से कश्मीर में आतंकवाद के खिलाफ सुरक्षाबलों के अभियान पर अच्छा असर पड़ेगा। रियाज को मोस्ट वांटेड टेररिस्ट की कैटेगरी में रखा गया था। वह हिजबुल मुजाहिद्दीन के लिए काम करता था। उसके ऊपर 12 लाख रुपए का इनाम था। 2016 में बुरहान वानी के एनकाउंटर के बाद रियाज नायकू हिज्बुल मुजाहिदीन का कमांडर बना था। वह सोशल मीडिया के जरिए आतंकवाद फैलाता था। आतंकवादी बनने से पहले भी आज मैथ्स टीचर था। मिली जानकारी के अनुसार रियाज अपने कुछ करीबी लोगों पर ही विश्वास करता था। वह अपने गांव अपनी बीमार मां से मिलने के लिए आया था। बता दें कि कश्मीर में 35 से ज्यादा आतंकी संगठन सक्रिय हैं और इस साल 10 से ज्यादा आतंकवादी हिजबुल मुजाहिद्दीन में शामिल हुए हैं।