15 लाख से ज्यादा परिवारों को लेना होगा मंहगा गैस सिलेंडर…बिगड़ता घरेलू बजट

0
52

मरुधर बुलेटिन न्यूज़ डेस्क। महंगाई ने आम आदमी की कमर तोड़ कर रख दी है। पहले तो मोदी सरकार का बजट आम आदमी की उम्मीदों पर पानी फेरता दिखाई दिया। इसके बाद सिलेंडर के दामों में बढ़ोतरी भी आम आदमी की जेब पर असर डालती दिखाई दे रही है। दिल्ली विधानसभा के चुनाव खत्म होते ही जनता को जोर का झटका लगा है। गैर सब्सिडी वाले घरेलू गैस सिलेंडर के दामों में इजाफा हो गया है। 12 फरवरी से नई दरे लागू कर दी गई है। जिनमें गैर सब्सिडी के सिलेंडर की रेट में 149 रुपये का इजाफा किया गया है। घरेलू सिलेंडर की रेट बढाए जाने के बाद से ही आम जनता में भारी आक्रोश देखने को मिल रहा है।

आमतौर पर एलपीजी के दामों की समीक्षा हर महीने की पहली तारीख को की जाती है लेकिन इस बार दिल्ली चुनावों को देखते हुए 12 फरवरी को समीक्षा की गई। जिसके बाद इंडेन ने अपने गैर सब्सिडी वाले सिलेंडरों की रेट बढ़ा दी। साल 2020 में जनवरी के बाद से ही गैस सिलेंडर के दाम नही बढ़े थे। इंडियन ऑयल के मुताबिक दिल्ली में 14 किलो वाला सिलेंडर 144.50 रुपये बढ़कर 858.50 रुपये में मिलेगा। इसके अलावा मुंबई में 829.50 रुपये में सिलेंडर मिलेगा। जबकि कोलकाता में 896 रुपये में ये सिलेंडर मिलेगा। वर्तमान में सरकार एक वर्ष में प्रत्येक घर के लिए 14.2 किलोग्राम के 12 सिलेंडरों पर सब्सिडी देती है। जिसकी कीमत महीने-दर-महीने बदलती रहती है। अगर सब्सिडी से अधिक सिलेंडर चाहिए तो बाजार मूल्य पर खरीदारी करनी होती है। भारत में एलपीजी सिलेंडर की कीमत दो चीजों पर निर्भर करती है। इसमें पहला है एलपीजी का इंटरनेशनल बेंचमार्क रेट और दूसरा है यूएस डॉलर और रुपये का एक्सचेंज रेट। इन दोनों चीज के भाव में उतार-चढ़ाव की वजह से गैस सिलेंडर के भाव में बदलाव आता है।