वंदे भारत मिशन के तहत सिंगापुर से भारतीयों को वापिस लेने गई एयर इंडिया की फ्लाइट पहुंची दिल्ली…

0
25
air india

मरुधर बुलेटिन न्यूज़ डेस्क। दुनिया में फैली कोरोना महामारी और लॉक डाउन के चलते हजारों की तादाद में भारतीय विदेशों में फंसे हुए हैं यह सभी भारतीय अपने देश वापिस आने के लिए बेचैन है। सरकार ने गुरुवार 7 मई से ही विदेश में फंसे भारतीयों को सुरक्षित वापस लाने का अभियान शुरू कर दिया है। इस महाअभियान का नाम ‘वंदे भारत मिशन’ रखा गया है। देर रात पहला विमान अबू धाबी से लोगों को वापस लेकर कोच्चि एयरपोर्ट पर पहुंचा। वंदे भारत मिशन के तहत सिंगापुर में फंसे भारतीयों को वापस लेने गई एयर इंडिया की फ्लाइट दिल्ली एयरपोर्ट पर  पहुंच चुकी है।

बहरहाल, बता दें कि अबू धाबी से लौटे 181 भारतीयों में से 5 में कोरोना संक्रमण के लक्षण दिखाई दिए हैं। जिसके बाद इन सभी लोगों को जिला अस्पताल अलुवा के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया है। वहीं एक यात्री को शारीरिक बीमारी थी जिन्हें एंबुलेंस के द्वारा छोटे से क्वॉरेंटाइन सेंटर में ले जाया गया।  बता दें कि, केरल सरकार ने विभिन्न देशों से लाए जा रहे लोगों के लिए त्रिशूर के गुरुवयुर में एक  क्वॉरेंटाइन सेंटर स्थापित किया है। बहरहाल, 7 मई से शुरू हुए वंदे भारत मिशन का पहला फेज 7 मई से 13 मई तक चलेगा। इस दौरान 12 देशों से 64 विमानों के जरिए विदेशो में फंसे 14 हजार 800 भारतीयों को वापस लाने की योजना बनाई गई है। हालांकि, इसमें कुछ बदलाव हो सकते हैं। लेकिन, 1990 के खाड़ी युद्ध के बाद ये सबसे बड़ा एयरलिफ्ट ऑपरेशन है। खाड़ी युद्ध के वक्त 1.70 भारतीय एयरलिफ्ट किए गए थे।बता दें कि विदेश से भारत लौटने वाले लोगों के लिए सरकार ने कुछ नियम बनाए हैं जिनके तहत लोगों को अपना किराया स्वयं देना होगा सबसे कम किराया 12 हजार रुपए ढाका से है जबकि सबसे ज्यादा किराया 1 लाख रुपए अमेरिका से है। वही, विदेश से लौटने वाले भारतीयों को स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी की गई गाइड लाइन का भी पालन करना होगा।