अब मानव संसाधन विकास मंत्रालय जाना जाएगा इस नए नाम से, राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद ने लगाई मुहर

0
149

मरूधर बुलेटिन न्यूज डेस्क। मानव संसाधन विकास मंत्रालय को शिक्षा मंत्रालय के नाम से जाना जाएगा। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने हाल ही में अब इस पर अपनी मुहर लगा दी है। बता दें कि पिछले महीने कैबिनेट की मंजूरी के बाद नई शिक्षा नीति के मसौदे में कुछ अहम बदलाव के तहत यह नाम बदला गया है। बता दें कि नई शिक्षा नीति अगले साल से प्रभावी होगी।

इसके साथ ही अब आधिकारिक रूप से मानव संसाधन विकास मंत्रालय का नाम बदलकर शिक्षा मंत्रालय हो गया है। पिछले ही महीने केंद्रीय मंत्रिमंडल ने इस नीति को मंजूरी दी थी। गौरतलब है कि 1985 में तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी के कार्यकाल में शिक्षा मंत्रालय का नाम बदलकर मानव संसाधन विकास मंत्रालय कर दिया गया था। एनईपी को 1986 में लाया गया था और बाद में इसे 1992 में संशोधित किया गया था।

पूर्व स्वर्गीय प्रधानमंत्री राजीव गांधी के कार्यकाल में पी.वी. नरसिंह राव पहले मानव संसाधन विकास मंत्री बने। बता दें कि केंद्रीय मंत्रिमंडल ने 29 जुलाई को नई शिक्षा नीति को मंजूरी दी थी। साथ ही मानव संसाधन विकास मंत्रालय का नाम बदलकर शिक्षा मंत्रालय करने का निर्णय लिया था। गौरतलब है कि के.कस्तूरीरंगन की अध्यक्षता वाली समिति ने पिछले साल मानव संसाधन विकास मंत्रालय को नई शिक्षा नीति का मसौदा सौंपा था। नई शिक्षा नीति का विषय 2014 के लोकसभा चुनाव से पहले भारतीय जनता पार्टी के चुनावी घोषणा पत्र में शामिल था।