कोरोना महामारी की जड़ों का पता लगाने के लिए अगले हफ्ते चीन जाएगी डब्ल्यूएचओ की टीम…

0
29
WHO

मरूधर बुलेटिन न्यूज डेस्क। दुनिया में फैली कोरोना महामारी ने बड़े-बड़े देशों को घुटने टेकने पर मजबूर कर दिया है यह बीमारी दिसंबर महीने में चीन के वुहान शहर से फैली थी। मात्र 2 महीने के भीतर ही कोरोना महामारी पूरी दुनिया में फैल गई। जिसके बाद चीन पर इस महामारी के बारे में समय पर जानकारी ना देने के आरोप भी लगाए गए। लेकिन अब विश्व स्वास्थ्य संगठन की एक टीम अगले हफ्ते इस बात का पता लगाने चीन जाएगी कि आखिर यह बीमारी फैली कैसे। इसके साथ ही विश्व स्वास्थ्य संगठन ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के उन आरोपों को भी खारिज किया है जिनमें ट्रंप ने कहा था कि विश्व स्वास्थ्य संगठन कोरोना के प्रति जरूरी जानकारी देने में नाकाम रहा है। साथ ही ट्रंप ने डब्ल्यूएचओ पर यह भी आरोप लगाया था कि उसने महामारी फैलाने के बाद भी चीन के प्रति नरम रुख अपनाया है।

बता दें कि चीन में स्थानीय डब्ल्यूएचओ ऑफिस वायरल निमोनिया के मामलों पर वुहान म्युनिसिपल हेल्थ कमीशन का बयान लेगा, इसके बाद यह जांच 6 महीने से अधिक समय तक चलेगी। इसके साथ ही विश्व स्वास्थ्य संगठन का यह भी कहना है कि कोरोना महामारी के बारे में पहले जानकारी चीन में नहीं बल्कि डब्ल्यूएचओ ने दी थी। बता दें कि डब्ल्यूएचओ ने महामारी को लेकर शुरुआती टाइमलाइन 9 अप्रैल को जारी की थी। डब्ल्यूएचओ के निदेशक ने बताया था कि चीन से पहली रिपोर्ट 20 अप्रैल को आई थी। इसमें कहा गया था कि चीन में इस बारे में भी जानकारी नहीं दी कि यह रिपोर्ट चीनी अधिकारियों या फिर किसी अन्य स्रोत के द्वारा भेजी गई है। 31 दिसंबर को चीन में स्थित डब्ल्यूएचओ के कार्यालय ने “वायरल निमोनिया” के बारे में जानकारी दी थी।