बूंदी।जिला उपाध्यक्ष मनोज खटीक ने बताया कि बूंदी जिले के ग्राम पंचायत सहायक जिलाध्यक्ष दिनेश शर्मा के नेतृत्व में प्रदेशव्यापी आह्वान पर आगामी 9 सितंबर को जयपुर 22 गोदाम अनिश्चितकालीन धरने आंदोलन में शामिल होने के लिए पहुंचेंगे ।प्रदेश के 27000 ग्राम पंचायत सहायक 9 सितंबर से संपूर्ण राजस्थान में कार्य का बहिष्कार करते हुए अनिश्चितकालीन आंदोलन को सफल बनाने और अपनी प्रमुख नियमितीकरण की मांग को पूरा करवाने के लिए जयपुर की धरा पर एकत्रित होंगे ।जिले में कार्यरत ग्राम पंचायत सहायक जिनकी प्रदेश में कुल संख्या 27000 है पिछले 14 वर्षों से राज्य सरकार से न्याय मांगने को प्रयासरत है लेकिन 2 विभागों में फसे पंचायत सहायकों की कोई सुनने वाला नहीं है।प्रदेश में अब तक 22 पंचायत सहायक कोरोना महामारी की भेंट चढ़ चुके हैं।लगभग 80 विद्यार्थी मित्र ग्राम पंचायत सहायक आर्थिक तंगी के चलते दुनिया को अलविदा कह चुके हैं । ग्राम पंचायत सहायक मात्र 6000 मासिक में अपनी ड्यूटी पिछले 5 वर्षों से लगातार इस पद पर देते आ रहे हैं। पूर्व में विद्यार्थी मित्र के रुप में 8 वर्ष अपनी सेवाएं दे चुके हैं।जन घोषणा पत्र में कांग्रेस सरकार ने वादा किया था कि ग्राम पंचायत सहायकों को सम्मानजनक मानदेय के साथ नियमित किया जाएगा ।लेकिन वर्तमान में नियमित करना तो दूर इनका सम्मानजनक मानदेय भी नहीं किया गया है।प्रदेश के 27000 ग्राम पंचायत सहायक घोषणा पत्र में किए गए वादे के अनुसार नियमितीकरण की प्रमुख मांग है । जो कि पिछले 14 वर्षों से चली आ रही है उसे पूरा किए जाने तक इस आंदोलन को जारी रखेंगे। जिसकी समस्त जिम्मेदारी राज्य सरकार की होगी ।संविदा कमेटी की अब तक आठ मीटिंग हो चुकी है । लेकिन अभी तक सम्मानजनक मानदेय वृद्धि नहीं हुई है न ही जन घोषणा पत्र में किए गए वादे अनुसार नियमितीकरण की प्रक्रिया प्रारंभ की गई है ।ग्राम पंचायत सहायकों के प्रति राज्य सरकार के नकारात्मक रवैया को लेकर प्रदेश के 27000 ग्राम पंचायत सहायकों में रोष व्याप्त है।पिछले 14 वर्षों से राज्य सरकार विद्यार्थी मित्र पंचायत सहायकों की अनदेखी किए जा रही है।