उत्तर प्रदेश से पुलिस की अमानवीयता का एक और वीडियो सामने आया है। इस वीडियो में यूपी के कौशांबी में पुलिस की मानवता को शर्मिंदा करने वाली तस्वीर दिखाई दी है। जहां मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कौशांबी दौरे की तैयारियों में जुटी पुलिस ने फुटपाथ पर खाना खा रहे एक गरीब को जानवरों की गाडी में लाद लिया। दो-तीन पुलिस वालों ने मिलकर गरीब को उठाया और जानवर पकड़ने वाली गाड़ी में डाल दिया। गरीब छटपटाता रहा, लेकिन चार पुलिसवालों ने उस पर जरा भी तरस नहीं दिखाया। इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर आया तो लोगों में गुस्सा देखने को मिला। पुलिस की इस हरकत से आक्रोशित हुए लोगों ने कहा कि पुलिस इंसान और जानवर में फर्क करना भूल गई है। पुलिस के द्वारा की गई इस कार्रवाई की सोशल मीडिया पर खूब निंदा हो रही है।


बता दें कि रविवार को सीएम योगी को कौशांबी आना था। पुलिस सारी तैयारियों में जुटी हुई थी। सीएम को जिस रोड से गुजरना था, पुलिस उस रोड को साफ करने पहुंची। तभी पुलिस को वहां मानसिक रूप से कमजोर एक युवक दिखा, जो खाना खा रहा था। पुलिस ने उस युवक को वहां से उठाकर जानवरों की गाड़ी में डाल दिया। हालांकि, जब सोशल मीडिया पर पुलिस के इस व्यवहार का विरोध होने पर कौशांबी पुलिस ने अपने ट्वीटर अकाउंट पर सफाई दी है। पुलिस ने अपनी सफाई मे लिखा है कि मंझनपुर चौराहे पर रास्ते में एक व्यक्ति जनसभा में आने-जाने वाले व्यक्तियों को पत्थर मार रहा था। सुरक्षा की दृष्टि से उसे हटाया गया। उसके भोजन और कंबल का प्रबंध भी किया गया। हालांकि, सोशल मीडिया यूजर्स का कहना है कि माना ये युवक मंदबुद्धि है,इसलिए पत्थर फेंक रहा था। तो क्या इंसान को जानवरों की गाड़ी में ले जाएँगे?