Marudhar Desk: देश-प्रदेश में एक बार फिर कोरोना की तीसरी लहर ने दस्तक दे दी है। हजारों लोग कोरोना पॉजिटिव हो चुके हैं और लगातार दिल दहला देने वाले आंकड़े बढ़ते जा रहे हैं मगर राजधानी जयपुर में राजस्थान राज्य पथ परिवहन निगम के अधिकारी अब स्वयं कोरोना फैलाएंगे। जी हां चोंकिए मत। राजस्थान राज्य पथ परिवहन निगम की हरकतों से तो यही प्रतीत हो रहा है। वैशाली नगर आगार में महिला परिचालक तुलसी बाई गुर्जर के ससुर कोरोना पॉजिटिव हो गए तो चिकित्सकों ने तुलसी बाई सहित सभी परिजनों को होम आइसोलेट होने की सलाह दी। मगर जब परिजन के कोरोना पॉजिटिव होने की सूचना महिला परिचालक ने राजस्थान राज्य पथ परिवहन निगम वैशाली नगर आगार के अधिकारियों को दी तो उनको होम आइसोलेट के लिए अवकाश तो नहीं मिला लेकिन ड्यूटी नहीं देने पर नौकरी से बर्खास्त करने की धमकी जरूर मिल गई जिसके बाद मजबूर होकर महिला परिचालक तुलसी बाई गुर्जर बस में ड्यूटी दे रही है जिसके कारण सैंकड़ों-हजारों यात्रियों में कोरोना फैलने से इंकार नहीं किया जा सकता है।
वैशाली नगर आगार की बस में ड्यूटी दे रही महिला परिचालक तुलसी बाई गुर्जर ने आगार के अधिकारियों से उन्हें होम आइसोलेट के लिए अवकाश देने की गुहार लगाई मगर एक काम नहीं आई और उल्टा अधिकारियों ने उसे ड्यूटी पर नहीं आने पर नौकरी से बर्खास्त करने की धमकी तक दे डाली। महिला परिचालक तुलसी बाई गुर्जर ने बताया कि उसके 67 वर्षीय ससुर माधोसिंह गुर्जर 4 जनवरी को आरटीपीसीआर जांच में कोरोना पॉजिटिव पाए गए। चिकित्सकों ने परिजनों और उनके सम्पर्क में आए लोगों को होम आइसोलेट होने की सलाह दी। इस पर परिचालक तुलसी बाई गुर्जर ने राजस्थान पथ परिवहन निगम के मुख्य प्रबंधक, प्रबन्धक यातायात और मुख्य समय पालक को दूरभाष पर सूचना दी तो अधिकारियों ने रिपोर्ट वाट्स एप पर भेजने के निर्देश दिए। तुलसी बाई गुर्जर ने ससुर के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने की रिपोर्ट निगम के इन सम्बन्धित अधिकारियों को वाट्स एप के जरिए भेज दी। लेकिन 5 जनवरी को अधिकारियों ने महिला परिचालक को ड्यूटी देने के निर्देश दिए और पालना नहीं करने पर नौकरी से बर्खास्त करने की धमकी दी जिसके कारण मजबूर होकर महिला परिचालक तुलसी बाई ड्यूटी दे रही है।
अब सवाल यह है कि नौकरी से बर्खास्त होने की धमकी के चलते महिला परिचालक तुलसी बाई ड्यूटी तो दे रही है मगर बस में यात्रा करने वाले सैंकड़ो-हजारों यात्रियों में कोरोना फैला तो इसकी जिम्मेदारी किसकी होगी? जयपुर से टोडारायसिंह तक चलने वाली वैशाली नगर आगार की बस संख्या 7213 में तुलसी बाई गुर्जर परिचालक है। इस बस में रोजाना सैकड़ों यात्री आवागमन करते हैं लेकिन अब इस बस में यात्रा करने वाले लोगों को अपनी कोविड जांच कराने पर ही पता चलेगा कि वह भी कोरोना पाजिटिव हो गए हैं या नहीं। लेकिन वैशाली नगर आगार के अधिकारियों का तुगलकी फरमान सैंकड़ों हजारों लोगों की जान जोखिम में डाल सकता है।