Jaipur: कोरोना वायरस की तीसरी लहर की आशंका के बीच कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रोन ने पूरी दुनिया में दहशत फैला दी। डॉक्टरों और वैज्ञानिकों द्वारा ये वैरिएंट बेहद खतरनाक बताया जा रहा है। जिससे भारत में भी भय का माहौल बनने लगा है। केंद्र सरकार के साथ-साथ राज्य सरकारें भी तैयारियों में जुट गई है। इस बार किसी भी तरह की कोताही बरतने के मूड में नही है। राजस्थान की गहलोत सरकार भी नए वैरिएंट के आऩे से अलर्ट मोड में आ गई है। लोगों से वैक्सीन की दोनों डोज़ लगवाने की अपील की जा रही है। खुद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने स्वास्थय विभाग के अधिकारियों को वैक्सीनेशन ज्यादा से ज्यादा करवाने के निर्देश दिए है। इसके साथ ही किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए ऑक्सीजन सपोर्ट वाले 28 हजार बेड तैयार कर लिए गए हैं और बच्चों के लिए 2600 आईसीयू बेड तैयार किए जा रहे हैं। वहीं, उत्तर प्रदेश सरकार के स्वास्थ्य विभाग ने इसको लेकर सभी जिलों को आवश्यक तैयारी करने के लिए दिशानिर्देश जारी किए हैं। मुख्‍यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आला अधिकारियों को सतर्कता से काम करने के निर्देश दिए हैं. उत्तर प्रदेश में इस नए वेरिएंट को लेकर लखनऊ समेत सभी जिलों में विदेश से आने वालों की बारीकी से जांच के निर्देश जारी किए गए हैं। आपको बता दें कि साउथ अफ्रीका में पाए गए कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रोन ने दुनिया के होश उड़ा दिए हैं। कोरोना के इस नए वैरिएंट को वैरिएंट ऑफ कंसर्न (VoC) की कैटेगरी में रखते हुए WHO ने इसे ओमिक्रॉन नाम दिया है। यह कोरोना का अब तक का सबसे अधिक म्यूटेशन करने वाला वैरिएंट माना जा रहा है। यही वजह है कि वैज्ञानिक इसे ‘डरावना’ बता रहे हैं। इसे डेल्टा वैरिएंट से कहीं ज्यादा म्यूटेशन और तेजी से फैलने वाला करार दिया गया है।