Marudhar Desk: उत्तर प्रदेश, पंजाब समेत पांच राज्यों में आगामी विधानसभा चुनावों की तैयारियां तेज हो गई है। लेकिन इसी बीच कोरोना की रफ्तार भी देश में बहुत तेज हो गई है। अब बढ़ते संक्रमण के मामलों को देखते हुए पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों को लेकर केंद्रीय चुनाव आयोग ने स्वास्थ्य मंत्रालय से लेकर आईसीएमआर और एम्स के निदेशक से चर्चा की है। कोरोना महामरी की तीसरी लहर के डर के बीच चुनाव सुरक्षित संपन्न करवाने से जुड़े तमाम पहलुओं पर सुझाव भी लिए गए हैं। आईसीएमआर के निदेशक बलराम भार्गव और एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया ने कोरोना के बढ़ते मामलों से जुड़े हुए अन्य पहलुओं पर भी केंद्रीय चुनाव आयोग के साथ चर्चा की। कोरोना की मौजूदा स्थिति को देखते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव और स्वास्थ्य विशेषज्ञों के साथ बैठक में टीकाकरण पर जोर दिया गया। तो वहीं, केंद्रीय गृह सचिव के साथ बैठक में कानून व्यवस्था को लेकर चर्चा हुई। इस दौरान चुनाव वाले पांच राज्यों में सभी पात्र लोगों के लिए टीकाकरण की जरूरत पर जोर दिया गया। साथ ही पोल पैनल ने कोविड की स्थिति को लेकर “पूर्ण समीक्षा” की। वहीं, सुरक्षा मामलों को लेकर चुनाव आयोग ने एक अलग बैठक बुलाई। जिसमें केंद्रीय गृह सचिव अजय कुमार भल्ला शामिल हुए। इस दौरान पांच चुनावी राज्य उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, गोवा, पंजाब और मणिपुर में कानून व्यवस्था की स्थिति को लेकर चर्चा की गई। बता दें कि देश में कोरोना संक्रमण के मामलों में लगातार इजाफा हो रहा है। कोविड-19 के नए वैरिएंट ओमिक्रोन के कारण नाजुक हालात बने हुए हैं।