Jaipur: पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने एक बार ​फिर जता दिया है कि वो प्रदेश में रहकर प्रदेश की ही राजनीति करेंगे और राजस्थान में फिर से कांग्रेस की सरकार बनाने की पुरजोर कोशिश करेंगें। आज जयपुर से अलवर जाते समय पायलट ने मीडिया से बातचीत में कहा कि जब से हमने पार्टी को ज्वाइन की है और मुझे जो जिम्मेदारी दी गई हैं उसको पूरी निष्ठा से निभया है। लेकिन हमारी प्राथमिकता यही है कि राजस्थान के लोगों के बीच में रहकर प्रदेश में दोबारा कांग्रेस की सरकार बनाये। पायलट ने कहा कि इस बार मंत्रिमंडल विस्तार में महिलाओं, दलितों, किसानों सभी को जगह दी गई है। आगामी चुनावों को लेकर सरकार और संगठन अपनी जवाबदेही तय करे और आगे बढ़े। इसके साथ ही कार्यकर्ताओं को भी सम्मान मिले। पायलट ने जोर देते हुए कहा कि हर कार्यकर्ता को पद नही चाहिए लेकिन उनकी इज्जत होनी चाहिए और उनकी भागीदारी सुनिश्चित होनी चाहिए। जो लोग खून-पसीना बहाकर कांग्रेस सरकार लाए, उनको हिस्सेदारी, मान-सम्मान मिले, भागीदारी मिले और राजस्थान में जो 5 साल भाजपा 5 साल कांग्रेस की सरकार बनने का ट्रेंड है, मुझे पूरा विश्वास है इसको हम इस बार तोडेंगे। एकजुटता से काम करेंगे और साल 2023 में राजस्थान में कांग्रेस की सरकार बनेगी।
पायलट ने आगे कहा कि दलित और आदिवासियों पर कोई अत्याचार करता है तो उसपर कठोर कार्रवाई होनी चाहिए। मंत्रिमंडल विस्तार के सवाल पर पालयट ने कहा कि प्रदेश में मंत्रिमंडल विस्तार से जो मंत्रिमण्डल में कमी थी उसको पूरा किया गया है। जिसको लेकर मैं कांग्रेस आलाकमान का शुक्रगुजार हूं। हमारी मांगे थी उनमें से कुछ को पूरा कर दिया गया है और जो रह गई वो भी जल्द ही पूरी हो जाएगी। साथ ही पायलट ने केन्द्र सरकार पर भी निशाना साधते हुए कहा कि पिछले 70 सालों में जिन लोकतांत्रिक संस्थाओं का निर्माण किया गया उसमें सबका योगदान रहा, दुर्भाग्यवश जो लोग आज केन्द्र की सत्ता में बैठे है वो लोकतांत्रिक संस्थाओं को कमजोर करने का काम कर रहे है। आज संविधान दिवस है और हमें प्रण लेना चाहिए कि जिस संविधान की वजह से ये देश एक रहा, लोकतांत्रिक रहा, इसमें जो दूरदर्शी सोच उननिर्माताओं की रही ​जिन्होने इस देश का संविधान दिया उस सोच को हमें आगे ले जाना चाहिए। आज जो हमारी संस्थाए है उनकी नींव को कमजोर करने की कोशिश चल रही हैं। पूरे देश को एक जुट होना चाहिए ओर लोकतंत्र में हार—जीत, सत्ता—विपक्ष सब चलता रहता है लेकिन जो हमारी धरोहर है उसको हमे बनाएं रखना चाहिए, उसको अगर हम कमजोर करेंगे तो देश को बहुत नुकसान होगा।