राजस्थान में अनलॉक वन के तहत खुलेंगे ग्रामीण क्षेत्रों में धार्मिक स्थल, हैल्थ प्रोटोकॉल की पालना करना अनिवार्य…

0
32

मरूधर बुलेटिन न्यूज डेस्क। राजस्थान में अनलॉक वन के तहत प्रदेशवासियों को रियायतें देने का सिलसिला लगातार जारी है। रविवार को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने निवास स्थान पर कोरोना संक्रमण के हालातों पर ली गई समीक्षा बैठक में कई निर्देश जारी किए हैं। सीएम गहलोत ने अब ग्रामीण क्षेत्रों में श्रद्धालुओं के लिए धार्मिक स्थल खोलने की अनुमति दे दी है। हालांकि, इनमें सीमित संख्या में ही श्रद्धालुओं को जाने की अनुमति है। बता दें कि शहरों में सभी धार्मिक स्थल और ग्रामीण क्षेत्रों में बड़े धार्मिक स्थल सरकार के अगले आदेश तक बंद रहेंगे। इसके अलावा गहलोत सरकार ने एक और बड़ा फैसला लिया है। देश के दूसरे राज्यों से राजस्थान में आने वाले लोगों को 14 दिन के अनिवार्य क्वारंटाइन में रखे जाने की अनिवार्यता को भी हटा दिया गया है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि दूसरे राज्यों से राजस्थान आने वाले लोगों को अब अपनी इच्छा से आवाजाही को सीमित रखना होगा। इसके साथ ही कोरोना संक्रमण से बचाव के सभी जरूरी उपाय अपनाने होंगे।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि कोरोना संक्रमण के किसी भी लक्षण के दिखाई देने पर तुरंत चिकित्सकीय परामर्श करवाना होगा और संक्रमण की जांच भी करवानी होगी। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ग्रामीण क्षेत्रों में धार्मिक स्थल खोलने के आदेश जारी करते हुए कहा कि ग्रामीण इलाकों में केवल उन्हीं धार्मिक स्थलों को खोलने की अनुमति होगी जहां सामान्य दिनों में 50 या फिर उससे कम संख्या में श्रद्धालु आते हैं। सरकार की तरफ से आदेश जारी किए गए हैं कि जिन धार्मिक स्थलों को खोलने की अनुमति दी गई है वहां सीमित संख्या में लोग भगवान की उपासना और धार्मिक कार्यों के लिए आ सकेंगे। इस दौरान मास्क सैनिटाइजर और सोशल डिस्टेंसिंग समेत सभी दिशा निर्देशों की पालना करना अनिवार्य है। बता दें कि प्रदेश में स्कूल कॉलेज समेत सभी शैक्षणिक संस्थान, सिनेमा हॉल मेट्रो अभी बंद रहेंगे।