प्रदेश में राज्यसभा चुनाव से पहले सियासी हलचल तेज, कांग्रेस ने डर के कारण उठाया ये कदम

0
53
congress

मरूधर बुलेटिन न्यूज डेस्क। प्रदेश में इन दिनों राज्यसभा चुनावों से पहले सियासी गर्माहट शुरू हो चुकी है। अब बहुत कम समय बचा है राज्यसभा चुनावों में ऐसे में प्रदेश की गहलोत सरकार को भाजपा द्वारा विधायकों को खरीदे जाने का डर सताते नजर आ रहा है। ऐसे में पार्टी ने एक बड़ा कदम उठा कर विधायकों की बाड़ाबंदी शुरू कर दी है।

कोविड19 से जंग ​जीतने के लिए अब देश में पहली बार लॉन्च होंगे एंटी वायरस कपड़े, कंपनी का दावा…

इसी बीच राज्यसभा चुनाव से पहले पार्टी से विधायक ना टूटे इसके लिए हाल ही में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के निवास पर एक अहम बैठक की गई। बैठक में पार्टी के कई विधायक शामिल हुए। बैैठक में विधायक टूटे नहीं इसके चलते एक निर्णय लिया गया और कांग्रेस पार्टी ने इस दौरान निर्दलियाें समेत 110 विधायकाें को जयपुर की हाेटल शिव विलास में शिफ्ट कर दिया। बाद में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत खुद भी होटल पहुंचे और विधायकों को संबोधित करते हुए पार्टी के विधायकों से एकजुट रहने और किसी तरह के लोभ व लालच में बचने से कहा। उन्होंने बीजेपी पर आरोप लगाया कि कुछ कांग्रेस विधायकों को पैसे लो-इस्तीफे तक की पेशकश की गई।

साथ ही मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि प्रदेश में दो महीने पहले ये चुनाव हो सकते थे, लेकिन गुजरात और राजस्थान में खरीद-फरोख्त पूरी नहीं होने के कारण भाजपा ने इसमें देरी की। बता दें कि इससे पहले राजस्थान विधानसभा के मुख्य सचेतक महेश जोशी ने इस संबंध में पत्र लिखकर शिकायत दर्ज करवाई है। गौरतलब है कि राज्य में 19 जून को 3 सीटों पर राज्यसभा चुनाव हैं। राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस ने केसी वेणुगोपाल और नीरज डांगी का उतारा है तो भाजपा ने राजेंद्र गहलोत और ओंकार सिंह को उतारा है।