अलवर राजस्थान स्टेट रोडवेज एम्प्लाइज यूनियन की अलवर शाखा के आव्हान पर आज दोपहर 12 बजे बस स्टैंड पर चोरी प्रकरण में कर्मचारियों से की जा रही वसूली के विरोध में  प्रदर्शन किया गया। विज्ञप्ति में बताया कि अलवर आगार में पिछले वर्ष 32 वाहनों की ताँबे की लीड व 5 सेल्फ स्टार्टर चोरी हुए थे इस प्रकरण की एफआईआर कोतवाली थाने में दर्ज हुई थी दिनाँक 8 जुलाई 2021 को कर्मचारियों को पत्र देकर सूचित किया गया कि चोरी के प्रकरण में वो 7084 रुपये निगम खाते में 7 दिवस में जमा करावे , 7 दिवस में जमा नही कराने पर जुलाई माह के वेतन के कटौती करने के आदेश किए गए हैं । इस कटौती के विरोध में कर्मचारियों ने आक्रोश व्यक्त किया ।उनका कहना कि इस प्रकरण में उनको जबरन दोषी बनाया जा रहा है । उन्हें इस प्रकरण में किसी प्रकार की सुनवाई का मौका नही दिया गया जो कि निगम प्रबंधन की दमनकारी नीति प्रतीत होती हैं । जबकि कर्मचारियों द्वारा बार - बार इस प्रकरण में आगार प्रबंधन व मुख्यालय को पत्र लिखकर इस प्रकरण में जानकारी दी और जाँच की मांग की लेकिन अंततः इस प्रकरण का कर्मचारियों पर ही थोप दिया गया इस प्रकरण की सूचना कर्मचारियों द्वारा 6/8/20को मौखिक व 18/8/20को लिखित सूचना दी गई परन्तु प्रबंधक संचालन ने इस मामले को दबाने की कोशिश की । कर्मचारियों की सूचना के एक डेढ़ माह बाद दिनाँक 21/9/20 को मुख्यालय से जांच आने के बाद  एफआईआर में 145000 के लगभग की चोरी की रिपोर्ट दर्ज कराई गई ।इस प्रकरण की रिकवरी 56672 रुपये की निकाली गई इसका अर्थ यह है कि लगभग 90000 रुपये का सामान निगम को मिल गया  हमारी मांग हैं कि जहाँ पर यह सामान मिला है बाकी सामान भी उनके पास ही है उन्ही से इसकी वसूली की जावे । जिन कर्मचारियों से वसूली की जा रही हैं उन्हें पुलिस ने भी दोषी नही माना है  ऐसे में यह वसूली रोकी जानी चाहिए तथा कर्मचारियों को उनकी बात रखने का मौका दिया जाना चाहिए इस मौके पर कॉमरेड हरिओम चुघ, कॉमरेड तेजपाल सैनी, सूबेसिंह चौधरी, संजय चौधरी, कालीचरण जोशी, राकेश तिवाड़ी, जफर इक़बाल, शांति देवी, नन्दू सिंह, बनवारी, राजेंद्र आदि कर्मचारी उपस्थित रहे
7 1