जोधपुर शहर के महामंदिर स्थित आरटीओ के समीप विद्यानगर मेें रहने वाली एक महिला को कथित भोंपे के जाल में फँस कर सबकुछ लुटा बैठी। जेवरात, नगदी के साथ उसकी फैक्ट्री की मशीनरी तक चोरी कर ली गई। पीडि़ता आखिरकार चोट खाने के बाद पुलिस की शरण में पहुंची है। महामंदिर पुलिस ने धोखाधड़ी में केस दर्ज कर इसमें तफ्तीश आरंभ की है।

महामंदिर पुलिस ने बताया कि आरटीओ के समीप विद्या नगर स्थित सांखला टेंट के पास गली में रहने वाली मंजू शर्मा पत्नी रवि शर्मा की तरफ से यह रिपोर्ट दी गई। इसमें बताया कि पहाडग़ंज मंडोर निवासी चंद्र सिंह पुत्र नरपतसिंह का उसके पड़ौसी के घर पर आना जाना था।

पड़ौसी के मार्फत उससे पहचान हुई थी। जान पहचान ज्यादा होने पर चंद्र सिंह का उसके घर भी आना जाना शुरू हो गया। पता लगा कि चंद्र सिंह जादू टोना और तांत्रिक क्रियाएं कर घर में सुख समृद्धि लाता है। तब चंद्र सिंह ने मंजू शर्मा को भी अपने जाल में फ ांस लिया।

घर में सुखशांति और बरकत के लिए चंद्र सिंह तांत्रिक क्रियाओं नाम पर उससे लाखों के जेवरात, नगदी आदि लिए। उसने अपने गहने एक निजी फाइनेंस कंपनी में गिरवी रख कर 1.30 लाख रुपये लोन भी लिया।

फिर उन रुपयों से तांत्रिक क्रिया करवाई और एक बार पुष्कर लेकर गया। जहां पर भी 40-50 हजार रुपये खर्चा किया गया।

बाद में उसने मंजू शर्मा के पति रवि शर्मा के लोहे के कारखाने डालीबाई मंदिर के पास में उसकी बरकत के लिए पूजा पाठ को कहा था। तब उसे कारखाने में लेकर गए। मार्च में लॉकडाउन लगने पर कारोबार बंद रहा।

मगर अब अनलॉक होने पर कारखाने पर गए तो पता लगा कि सारी मशीनरी ही गायब हो गई है। पीडि़ता को अब इसमें ठगी का अहसास होने पर महामंदिर थाने में धोखाधड़ी की रिपोर्ट दी गई है।

भीलवाडा मे भी कुछ ऐसे ही कतिथ तांत्रिक है जो तंत्र विधा के नाम पर घर मे शांता करने, बच्चो को ठीक कर परेशानी दूर करने,पति-पत्नी , प्रेमी-प्रेमिका का ढगडा खत्म कर मिलाने के नाम पर लंटखसोट कर लहे है और दलाल के रूप मे कुछ साथ मै लगे रहते है।