पूर्व वित्तमंत्री पी. चिदंबरम से ट्यूशन लें राहुल गांधी: प्रकाश जावेड़कर

0
11
Prakash Javadekar

मरूधर बुलेटिन न्यूज डेस्क। इस समय देश कोरोना वायरस जैसी वैश्विक महामारी के खिलाफ जंग लड़ता हुआ नजर आ रहा है। लेकिन इसी बीच संकट की इस स्थिति में कांग्रेस और भाजपा के बीच बयानबाजी होते नजर आ रहे है। हाल ही में कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर हल्ला बोलते हुए केन्द्र सरकार पर बड़े बैंक डिफॉल्टर के नामों को छिपाने का आरोप लगाया है। इतना ही राहुल गांधी ने देश के बैंकों ने 50 बड़े विलफुल डिफाल्टर्स का 68,607 करोड़ रुपए से अधिक का कर्ज बट्टे खाते में डालने का आरोप लगाया है। बता दें कि इस समय बीजेपी और कांग्रेस में डिफॉल्टरों के मुद्दे पर घमासान छिड़ा हुआ है।

इसी अब राहुल गांधी के बयान का भाजपा के नेता और केंन्द्रीय मंत्री प्रकाश जावेड़कर ने भी हमला बोला और कहा कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी को पूर्व वित्तमंत्री पी.चिदंबरम से क्लास लेनी चाहिए। केन्द्रीय मंत्री जावेड़कर ने ट्वीट कर कहा कि मैं राहुल गांधी की इस आरोप को सिरे से खारिज करता हूं कि मोदी सरकार ने 65,000 करोड़ रुपये माफ कर दिए हैं। एक भी पैसा माफ नहीं किया गया है। कर्ज को बट्टे खाते में डालने का मतलब माफ करना नहीं होता है। राहुल को चिदंबरम से कर्ज माफी और कर्ज को बट्टे खाते में डालने में अंतर समझने के लिए ट्यूशन लेना चाहिए।

मंत्री जावेड़कर से पहले वित्त मंत्री निर्मला ​सीतारमण ने राहुल गांधी पर हल्ला बोला था और कहा कि सरकार ने किसी भी डिफॉल्टर का कर्ज माफ नहीं किया है। सरकार उन से वसूली के लिए हर संभव कदम उठा रही है। गौरतलब हैं कि बीते दिन राहुल गांधी ने भाजपा पर सोशल मीडिया के जरिए निशाना साधा कि मैंने संसद में पूछा ​था कि मुझे देश के 50 सबसे बड़े बैंक चोरों के नाम बताइए। वित्तमंत्री ने जवाब देने से मना कर दिया। अब रिजर्व बैंक ने नीरव मोदी, मेहुल चोकसी सहित भाजपा मित्रों के नाम बैंक चोरों की लिस्ट में डाले हैं। इस कारण संसद में सच को छुपाया गया है।