राजस्थान हाई कोर्ट से इस वक्त की बड़ी खबर सामने आ रही है। रीट परीक्षा-2021 का विवाद अब हाई कोर्ट पहुंच गया है। रीट भर्ती परीक्षा की निष्पक्ष जांच के लिए मधु कुमारी नागर व अन्य ने हाई कोर्ट में याचिका दायर की गई है। कुल 5 अभ्यर्थियों की ओर से हाई कोर्ट में याचिका पेश की गई है।

अभ्यर्थियों की ओर से अधिवक्ता राम प्रताप सैनी ने याचिका पेश की है। अधिवक्ता राम प्रताप सैनी ने याचिका में बताया कि REET परीक्षा-2021 की CBI से निष्पक्ष जांच कराई जाए। यदि जांच में पेपर लीक पाया जाता है तो REET परीक्षा-2021 पुन: कराई जाए। इस मामले में संभवत: इसी सप्ताह हाई कोर्ट में सुनवाई हो सकती है। बता दें कि प्रदेशभर में 26 सितंबर को आयोजित रीट भर्ती परीक्षा में कथित गड़बड़ी मामले में एसओजी की स्पेशल टीम जांच कर रही है।

वहीं दूसरी ओर रीट परीक्षा में कथित धांधली और पेपर लीक मामले की सीबीआई से जांच करवाने के मामले में आज एक बार फिर राज्यसभा सांसद किरोड़ी लाल मीणा पर प्रदेश के शिक्षा राज्य मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने कड़ा प्रहार किया है। रीट मामले को लेकर बोलते हुए डोटासरा ने कहा कि किरोड़ी लाल मीणा ने सस्ती लोकप्रियता हासिल करने के लिए यह धरना दिया है।

उन्होंने कहा कि दो दिन पहले उन्होंने कहा था कि जब तक न्याय मिलेगा तब तक नहीं उठूंगा। लेकिन जैसे ही उनके नेता अरुण सिंह की डांट पड़ी तो तुरंत उठ गए। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि उनके साथ धरने पर बैठे रीट के अभ्यर्थी नहीं थे वो उनके ही लोग थे। अगर ये अभ्यर्थी रीट परीक्षा देने वाले होते तो वो किरोड़ी लाल और अरूण सिंह के कहने से धरने पर से नहीं उठते।