Marudhar Desk: पंजाब में चुनावों से ठीक पहले सियासत गरमाती जा रही है। पूर्व मंत्री और शिरोमणि अकाली दल के नेता बिक्रम सिंह मजीठिया की मुश्किलें अब और बढ़ती दिख रही हैं। ड्रग्स केस में FIR होने के बाद से मजीठिया की तलाश की जा रही है। अब दिग्गज अकाली नेता बिक्रम मजीठिया के अमृतसर स्थित स्वर्ण मंदिर में माथा टेकने की तस्वीरें सामने आते ही पंजाब सरकार में हड़कंप मच गया है। सुबह होते ही पंजाब पुलिस की टीमों ने मजीठिया के ठिकानों पर छापे मारे। चंडीगढ़ और पंजाब के कुछ अन्य जिलों के अलावा मजीठिया के अमृतसर स्थित आवास और कुछ करीबियों के यहां भी पंजाब पुलिस पहुंची। पुलिस को मजीठिया नहीं मिले। हालांकि, ये तस्वीर सामने आने के बाद इस तरह के सवाल भी खड़े हो रहे है कि ये तस्वीर नई है या पुरानी। वहीं मजीठिया की तस्वीरें नई-पुरानी के सवाल पर वरिष्ठ अकाली नेता विरसा सिंह वल्टोहा ने कहा कि बिक्रम मजीठिया हर नए साल के पहले दिन दरबार साहिब में माथा टेकते हैं। उन्होंने स्पष्ट नहीं कहा, लेकिन संकेत जरूर दिया कि मजीठिया की यह तस्वीरें शनिवार यानी एक जनवरी 2022 की ही हैं। अब इसके बाद पंजाब की चन्नी सरकार की मुश्किली भी बढ़ सकती है। नवजोत सिंह सिद्धू पहले ही कह चुके है कि सिर्फ केस दर्ज करने की खानापूर्ति नहीं चलेगी। मजीठिया को गिरफ्तार करना होगा। वहीं, सरकार कहती रही है कि वह लगातार कोशिश कर रहे हैं, लेकिन मजीठिया नहीं मिल रहे। ऐसे में मजीठिया की तस्वीरें सामने आने के बाद सिद्धू को फिर सरकार पर हमला करने का मौका मिल गया है। दरअसल बिक्रम मजीठिया के खिलाफ एक पुराने ड्रग केस में FIR दर्ज होने के बाद से ही वो अंडरग्राउंड हैं। उन्होंने पंजाब पुलिस की सुरक्षा भी छोड़ दी थी। इसके बाद वह अग्रिम जमानत के लिए मोहाली की सेशन कोर्ट गए, लेकिन कोर्ट ने उसे खारिज कर दिया। इसके बाद उन्होंने पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट में याचिका दायर की, जिसकी सुनवाई 5 जनवरी को होनी है।