पतंजलि ने लिया अब यूटर्न, कहा नहीं बनाई कोरोना की कोई दवा केवल…

0
558

मरूधर बुलेटिन न्यूज डेस्क। कोरोना की दवा को लेकर दावा करने वाली आयुर्वेद पतंजलि ने अब यूटर्न ले लिया है। सूत्रों से मिल रही जानकारी के अनुसार उत्तराखंड आयुष विभाग से मिले नोटिस के बाद पतंजलि ने कहा है कि उसने कोरोना की कोई दवा नहीं बनाई है। उसने तो केवल इम्यूनिटी बढ़ाने वाली दवा बनाई थी।

बता दें कि उत्तराखंड आयुष विभाग के नोटिस का जवाब देते हुए पतंजलि आयुर्वेद के आचार्य बालकृष्ण ने बताया कि औषधि के लेबल पर किसी तरह का अवैध दावा नहीं किया गया है। उन्होंने कभी भी कोरोना की दवा बनाने का दावा नहीं किया, ना ही यह प्रचार किया, ना किसी जगह विज्ञापन दिया कि हम कोरोना की दवाई बना रहे हैं। हमने तो केवल इम्यूनिटी तंत्र को मजबूत करने के लिए लाइसेंस लिया है और उसके लिए ही दवा बनाई है। हमारे खिलाफ षडयंत्र किया गया। कोरोनिल टेबलेट, श्वसारि वटी और अणु तेल औषधि तो एक इम्युनिटी बूस्टर का काम करने वाला था। अगर आयुष मंत्रालय यही कहेगा कि इसका क्लीनिकल ट्रायल दोबारा करो तो वह हम करने को तैयार हैं।

कोविड19 : शादी समारोह में नियमों की उड़ी धज्जियां, दूल्हे की मौत के साथ साथ 95 मेहमान कोरोना पॉजिटिव!

बता दें कि 23 जून मंगलवार को पतंजलि आयुर्वेद ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिए राजस्थान की निम्स यूनिवर्सिटी के साथ मिलकर कोरोना की दवा बनाने का दावा किया था। इस दवा का नाम कोरोनिल और श्वासारी बटी रखा गया था। इस दौरान योग गुरू बाबा रामदेव, आचार्य बालकृष्ण के अलावा निम्स विश्वविद्यालय के चेयरमैन मौजूद रहे। लेकिन अब उत्तराखंड आयुष विभाग के नोटिस के बाद पतंजलि अपने दावों से पलटी मारते हुए नजर आ रहे है और कह रहे है कि उन्होंने कोरोना की दवा बनाने का कभी दावा नहीं किया। बहरहाल बता दें कि देश में इस समय कोरोना का ग्राफ बढ़ी तेजी के साथ बढ़ता जा रहा है और अभी दुनिया या देश में कोविड19 को लेकर कोई भी दवा नहीं बनी है।