जयपुर में एक बार फिर हुआ टिड्डी दल का हमला, रासायनिक छिड़काव से नियंत्रित करने की कोशिश…

0
61
locust

मरूधर बुलेटिन न्यूज डेस्क। कोरोना महामारी के बीच प्रदेशवासियों को टिड्डी हमले का भी सामना करना पड़ रहा है। जयपुर सहित प्रदेश के अन्य जिलों में पहुंचे टिड्डी दल ने किसानों के माथे पर चिंता की लकीरें खींच दी है। टिड्डियों के हमले से पूरा आसमान ढक जाता है। यह पल भर में फसलों को चट कर जाती हैं। किसान थाली, पीपे, ढोल, पटाखे आदि बजा कर टिड्डियों को भगाने का प्रयास भी करते हैं लेकिन इन के हमले से फसलों को बचा पाना बेहद मुश्किल है। कृषि विभाग के उपनिदेशक बीआर काड़वा के अनुसार प्रदेश में रोज टिड्डियों के नए झुंड आ रहे हैं,आज ही 4 झुंड आए हैं। अब हालात बदल रहे हैं पहले खेतों में फसलें नहीं थीं, अब फसल खड़ी है। सरकार का कहना है कि टिड्डियों को नियंत्रित करने के लिए बॉर्डर के इलाकों में वायुसेना के हेलिकॉप्टर की मदद भी ली जाएगी।

पिछले डेढ महीने से टिड्डे दल का हमला चल रहा है।  राजस्थान सबसे अधिक प्रभावित राज्यों में से एक है। प्रदेश के कुछ जिले जैसे जोधपुर, जैसलमेर, बाड़मेर, गंगानगर  पाकिस्तान के साथ सीमा साझा करते हैं। जहां से टिड्डियां अन्य जिलों में प्रवेश कर रही हैं। टिड्डियों ने पाकिस्तान के पास सीमावर्ती क्षेत्रों को अपना प्रजनन केंद्र बनाया है जहाँ से वे यहाँ आ रहे हैं। इन्हें नियंत्रित करने के लिए सरकार की तरफ से हरसंभव प्रयास किया जा रहा है। बता दें कि कृषि विभाग की टीमों ने जयपुर जिले के फागी पंचायत में टिड्डियों के हमले को नियंत्रित करने के लिए रासायनिक छिड़काव किया। जयपुर के फागी इलाके में टिड्डी दल ने हमला किया था। जिसके बाद दवाई का छिड़काव करके टिड्डियों को मारा गया है।