Marudhar Desk: देश में कोरोना का कहर एक बार फिर हावी होता दिखाई दे रहा है। खासकर राजधानी दिल्ली और महाराष्ट्र में हालात खराब होते जा रहे है। बढ़ते संक्रमण से तीसरी लहर की आहट भी सुनाई देने लगी है। बीते दिन कोरोना के 13 हजार 154 नए मामले आए जो मंगलवार की तुलना में 43 फीसदी ज्यादा थे। इतने अधिक मामले आने के बाद चिंता सताना लाज़मी है। राजधानी दिल्ली और आर्थिक राजधानी मुबंई में हालत काफी खराब होती जा रही है। कोरोना संक्रमण के दिल्ली में 923 तो मुंबई में 2,510 मामले सामने आए है। कोरोना के बढ़ते मामलों के पीछे नए वैरिएंट ओमिक्रोन को बड़ा कारण माना जा रहा है। क्योंकि बाकी वैरिएंट के मुकाबले ओमिक्रॉन ज्यादा तेजी से फैलता है, इसलिए मामलों में अचानक से तेजी आने लगी है। बढते मामलों को देखते हुए दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि दिल्ली में जो नए मामले सामने आ रहे हैं, उनमें से 46 फीसदी मामले ओमिक्रॉन के हैं। उन्होंने ये भी कहा कि पहले जो ओमिक्रॉन विदेश से आने वाले यात्रियों में ही मिल रहा था, वो अब दूसरे लोगों में भी मिल रहा है। इससे माना जा रहा है कि अब ओमिक्रॉन का कम्युनिटी स्प्रेड शुरू हो गया है। दिल्ली के साथ-साथ मुंबई में भी हालात बेकाबू होने लगे हैं। यहां बीते दिन 2,510 नए मामले सामने आए। मुंबई में पॉजिटिविटी रेट 4 फीसदी के करीब पहुंच गया। महाराष्ट्र कोविड टास्क फोर्स के सदस्य का कहना है कि मुंबई में तीसरी लहर शुरू हो गई है। जो चिंता की बात है, लेकिन घबराने की जरूरत नहीं है। 4 दिन में केस डबल हो रहे हैं। जो नए केस मिल रहे हैं, उनमें हल्के लक्षण हैं। बता दें कि सिर्फ दिल्ली और मुंबई ही नहीं, बल्कि कई और राज्यों में भी संक्रमण में तेजी से फैलता जा रहा है। गुजरात में भी बुधवार को 548 नए मामले सामने आए जो 9 जून के बाद सबसे ज्यादा है। पश्चिम बंगाल में बुधवार को 1,089 केस आए जो 6 महीने में सबसे ज्यादा है। देश में कोरोना के बढ़ते मामलों से जो हालात बन रहे है उससे तीसरी लहर की आशंका बढ़ती जा रही है।