Jaipur: पूरे देश में कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रोन का कहर अब बरपने लगा है। लगातार बढ़ते मामले चिंता का सबब बनते जा रहे है। भारत में ओमिक्रॉन के केस तेजी से बढ़ रहे हैं। यह वैरिएंट देश के 21 राज्यों को जकड़ चुका है। देश में ओमिक्रॉन के मरीजों की संख्या बढ़कर 781 हो गई है। जिसके साथ ही राज्य सरकारों ने पाबंदिया बढ़ाना भी शुरु कर दिया है। राजधानी दिल्ली में ओमिक्रोन वैरिएंट के सबसे ज्यादा 238 मामले सामने आ चुके है। जिसके बाद दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार ओमिक्रोन की बढ़ती स्पीड को रोकने के लिए येलो अलर्ट, ऑड -ईवन फॉर्मूले जैसी पाबंदिया लगा चुकी है। राजधानी में अत्यावश्यक ऑफिसों को छोड़ अन्य दफ्तर 50 प्रतिशत उपस्थिति से संचालित होंगे। शादी और अंत्येष्टि में 20 लोग शामिल हो सकेंगे। गैर-जरूरी वस्तुओं की दुकानें और मॉल ऑड-ईवन फॉर्मूले से सुबह 10 से रात 8 बजे तक खुलेंगे। रेस्तरां सुबह 08 से रात्रि 10 बजे तक और बार दोपहर 12 से रात 10 बजे तक 50 प्रतिशत क्षमता से खुलेंगे। मेट्रो और सार्वजनिक वाहनों में 50 प्रतिशत क्षमता के साथ सफर कर सकेंगे। अब इसी तर्ज पर प्रदेश की गहलोत सरकार भी राजस्थान में ऑड-ईवन फॉर्मूला लागू कर सकती है। राजस्थान में भी कोरोना और नए वैरिएंट ओमिक्रोन का ग्राफ तेजी से बढ रहा है। बुधवार को भी राजस्थान में फिर कोरोना विस्फोट हुआ है। बुधवार को प्रदेश में 23 नए ओमीक्रोन केस सामने आए, जिसके बाद कुल ओमीक्रोन संक्रमितों की संख्या 69 पहुंची चुकी है। इसके पहले जयपुर के कोरोना और ओमीक्रोन मामलों के बारे में जयपुर सीएमएचओ नरोत्तम मिश्रा ने पूरी जानकारी दी थी और इसके साथ 31 दिसंबर तक सभी लोगों को घर में रहने की सलाह दी है। बता दें कि राजधानी जयपुर में कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रोन के बढ़ते मामलों को देखते हुए गहलोत सरकार ऑड -ईवन लागू करने का विचार कर रही है। कोरोना की दूसरी लहर में बाजारों को पूर्णतया बंद रखा गया था। ऐसे में व्यापारियों में खासी नाराज़गी भी देखी गई थी। इसे ध्यान में रखते हुए गहलोत सरकार ऑड-ईवन फॉर्मूले के साथ बाजार खोलने पर विचार कर सकती है। हालांकि, ऐसे में आम जनता को भी सतर्कता बरतने की जरुरत है। जरुरी है कि हम सावधानी बरतें और मास्क लगाना, सामाजिक दूरी के नियम का पालन करने समेत सभी कोविड प्रोटोकॉल्स का पालन करते रहे।