लॉकडाउन के बीच अब गंभीर ने पेश की इंसानियत की ये मिसाल, फैंस ने किया सलाम!

0
51
gautum

मरूधर बुलेटिन न्यूज डेस्क। ​भारतीय टीम के पूर्व आक्रामक बल्लेबाज और वर्तमान में दिल्ली से भाजपा के सांसद गौतम गंभीर हमेशा सुर्खियों में छाए रहते है। हाल ही में वो कोरोना के कारण जारी लॉकडाउन में मजदूरों की सहायता के लिए आगे आए और उनकी आर्थिक सहायता के लिए मदद की। इसी बीच एक बार फिर से वो लॉकडाउन में छाए हुए है। जिसकी उनके फैंस भी काफी प्रशंसा कर रहे है।

बता दें कि हाल ही में गौतम गंभीर ने एक बार फिर से इंसानियत की मिसाल पेश की। जानकारी के अनुसार गंभीर ने अपनी काम वाली के निधन के बाद उसका अंतिम संस्कार कराया। गंभीर की बच्चियों की करीब छह साल से देखभाल करने वाली उनकी ओडिसा की रहने वाली नौकरानी का लंबी बीमारी के बाद हाल ही में निधन हो गया। जिसके बाद गंभीर ने इंसानियत के नाते फर्ज निभाया और उसका अंतिम संस्कार कराया।

जानकारी के अनुसार, ओडिशा की रहने वाली सरस्वती पात्रा शुगर और ब्लडप्रेशर से काफी लंबे समय से लड़ते हुए नजर आ रही है। कुछ दिनों पहले उन्हें दिल्ली के सर गंगाराम अस्पताल में भर्ती कराया गया था। लेकिन अफसोस की 21 अप्रैल को इलाज के दौरान सरस्वती ने आखिरी सांसें ली और गंभीर ने उनका अंतिम संस्कार किया। गंभीर ने इस बात ​की जानकारी सोशल मीडिया के जरिए शानदार कैप्शन लिखकर दी। उन्होंने लिखा कि वो मेरे परिवार का हिस्सा थीं। उनका अंतिम संस्कार करना मेरा कर्तव्य था। हमेशा जाति, पंथ, धर्म या सामाजिक स्थिति के बावजूद गरिमा में विश्वास रखता हूं। मेरे लिए बेहतर समाज बनाने का यही तरीका है। मेरे विचार में भारत यही है ओम शांति। बता दें कि गंभीर हमेशा सामाजिक कार्यों में आगे रहते है। हाल ही में कोरोना के खिलाफ जंग में भी वो मदद के लिए आगे आए उन्होंने अपना दो साल का वेतन पीएम केयर्स फंड में दान कर दिया है। इसके अलावा उन्होंने दिल्ली सरकार को भी करीब एक करोड़ रुपये डोनेट दिए। इतना ही नहीं वो मजूदरों को भोजन के पैकेट्स भी उपलब्ध करा रहे है।