निर्भया ने मरने से पहले मां को बताई थी अपनी आखिरी इच्छा …

0
129
निर्भया माँ

मरूधर बुलेटिन न्यूज डेस्क। दिल्ली के चर्चित निर्भया दुष्कर्म मामले में 20 मार्च को चारों आरोपियों मुकेश सिंह, अक्षय ठाकुर, विनय कुमार और पवन गुप्ता को फांसी की सजा दी गई। चारों आरोपियों को फांसी से पहले अपनी आखिरी इच्छा बताने को कहा गया। हाल ही में ऐसी ही एक बात सामने आई है कि निर्भया ने भी मरने से पहले अपनी आखिरी इच्छा पर्ची में लिखकर अपनी मां को बताई थी।  इस दुनिया को अलविदा कहने से कुछ दिन पहले निर्भया की जब हालत बहुत अधिक खराब हो गई तो उसने पर्ची में लिखकर अपनी मां से अपनी आखरी इच्छा जाहिर की। हालत ज्यादा खराब होने के कारण वह ठीक से बोल नहीं पा रही थी इसलिए अपनी इच्छा छोटी छोटी पर्चियों में लिखकर पर वह अपनी मां को देती थी। इन्हीं में से एक पर्ची निर्भया ने मौत से कुछ दिन पहले अपनी मां को दी थी और कहा था कि मां मैं नहाना चाहती हूं, उन दरिंदों की छुअन को अपने शरीर से मिटाना चाहती हूं। 

निर्भया ने कहा था कि “मां मैं झरने के नीचे बैठकर कई दिनों तक नहाना चाहती हूं। उन दरिंदों की छुअन के बाद से मुझे मेरे शरीर से नफरत हो गई है, मैं उन दरिंदों की छुअन को मिटाना चाहती हूं। मां आप मेरे पास ही रहना और कहीं मत जाना , मुझे अकेले में डर लगता है”। बता दें कि निर्भया की हालत बहुत ज्यादा खराब हो गई थी। उसके शरीर के कई अंगों ने काम करना भी बंद कर दिया था। जिसके बाद अफरा-तफरी में उसे इलाज के लिए विदेश भेजा गया था। उसकी हालत काफी खराब थी । निर्भया के गुनहगारों के खिलाफ देश की जनता में बेहद गुस्सा और आक्रोश था इसलिए सरकार कोई रिस्क नहीं लेना चाहती थी। निर्भया के शरीर के कई अंगों ने काम करना बिल्कुल बंद कर दिया था जिस कारण वह बोल नहीं पा रही थी और न सांस ले पा रही थी। उस समय वह छोटी-छोटी पर्चियों में अपनी बात लिख कर डॉक्टरों और अपनी मां को देती थी। इन पर्चियों ने निर्भया के गुनहगारों को सजा दिलाने में भी मुख्य भूमिका निभाई है। निर्भया ने यह पर्ची 22 दिसंबर को लिखी थी और 29 दिसंबर को उसकी मृत्यु हो गई थी।