Jaipur: राजस्थान में कोरोना की तीसरी लहर की आहट के साथ ही सरकार भी सतर्क हो गई है। बुधवार को कोरोना के खतरे के बीच गहलोत मंत्रिमंडल की बैठक हुई। तीसरी लहर का खतरा बच्चों को ज्यादा है और जयपुर के कई प्रतिष्ठित स्कूलों के बच्चों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। जिसके बाद नए शिक्षा मंत्री बीडी कल्ला ने शिक्षा विभाग के अधिकारियों की बैठक ली। हालांकि, बैठक में कोरोना गाइडलाइन तय करने के प्रस्ताव पर कोई फैसला नही हुआ जिसका नतीजा ये रहा कि अभी राजस्थान में स्कूल खुले रहेंगे। शिक्षा मंत्री ने विभाग के अधिकारियों की बैठक ली जिसमें मौजूदा हालातों की रिपोर्ट तैयार की गई। इस रिपोर्ट में कई प्रस्ताव रखे गए है जैसे कि 100% क्षमता के साथ स्कूल खोलने के फैसले पर सरकार फिर से विचार करेगी। इसके लिए बच्चों को स्कूलों में अल्टरनेट डे पर बुलाया जा सकता है। राजस्थान में बढ़ते कोरोना केसेज के मद्देनजर स्कूलों में फिर से ऑनलाइन पढ़ाई शुरू हो सकती है। वहीं स्कूलों में लागू कोरोना गाइडलाइन में भी संशोधन होगा। छोटे बच्चों के टीकाकरण को लेकर भी मीटिंग में चर्चा की जाएगी। मुख्यमंत्री इस प्रस्ताव पर पहले सभी जिलों के कलेक्टर और मेडिकल ऑफिसर्स से चर्चा करेंगे। इसके बाद ही कोई फैसला लिया जाएगा।