Jaipur: राजस्थान में कोरोना वायरस के मामलों में लगातार इजाफा हो रहा है। आए दिन बढ़ते मामले चिंता का सबब बनते जा रहे है। आज भी प्रदेश में कोरोना के 24 नए मामले सामने आए है। सबसे ज्यादा मरीज राजधानी जयपुर में सामने आए है। यहां कोरोना के 12 मरीज मिले है, जिसमें 3 स्कूली बच्चे भी शामिल हैं। जयपुर में ही आज दो ऐसे व्यक्ति भी पॉजिटिव मिले है, जो 4 दिन पहले अमेरिका से आए थे। इन दोनों व्यक्तियों को ट्रेस करने, जांच करवाने और भर्ती करवाने में मेडिकल टीम की बड़ी लापरवाही और चूक देखने को मिली। बता दें कि दोनो पॉजिटिव मरीज भाई -बहन है और अजमेर रोड बड़ के बालाजी के रहने वाले है। दोनो संदिग्ध 3 दिसंबर को अमेरिका से आए थे जहां उनकी जयपुर एयरपोर्ट पर स्क्रीनिंग में उनकी रिपोर्ट नेगेटिव आई। हालांकि अगले दिन 4 दिसंबर को दोनों ने निजी लैब से जब जांच करवाई तो वह पॉजिटिव आई। 6 दिसंबर को इस बात की जानकारी सीएमएचओ सैकण्ड डॉ हंसराज भड़ालिया को मिली। जिसके बाद सीएमएचओ सैकण्ड की टीम ने फोन पर ही सस्पेक्ट को आरयूएचएस जाकर भर्ती होने के लिए कह दिया। संक्रमित मरीज जब आरयूएचएस पहुंचे तो वहां भी स्टाफ ने सैंपल लेकर उन्हें वापस घर भेज दिया। प्रशासन को जब इसकी भनक लगी तो उन्होंने सीएमएचओ सैंकड को फटकार लगाई और वापस उन्हें आरयूएचएस भर्ती करवाने के निर्देश दिए। हालांकि, ये जरा सी लापरवाही बड़ा खतरा भी बन सकती है। वहीं ओमिक्रॉन के 9 केस मिलन के बाद पूरे प्रदेश में हड़कंप मचा हुआ है। आज जयपुर में सामने आए 12 मामलों में 3 स्कूली बच्चे भी शामिल है। हालांकि, सभी बच्चों में हल्के लक्षण देखने को मिले हैं। बता दें कि आरयूएचएस के सुप्रिटेंडेंट डॉ. अजीत सिंह ने बताया कि ओमिक्रॉन वैरिएंट से प्रभावित मरीजों की तबीयत नॉर्मल है। मेडिकल एक्सपर्ट लगातार मॉनिटरिंग कर रहे हैं। यूक्रेन से जो युवती आई है, उसकी भी तबीयत सामान्य है। टीम युवती की जीनोम सिक्वेंसिंग की रिपोर्ट का इंतजार कर रही है।