मायावती की केंद्र और महाराष्ट्र सरकार को नसीहत, आरोप-प्रत्यारोप छोड़ मजलूमों पर दें ध्यान …

0
154
Mayawati

मरुधर बुलेटिन न्यूज़ डेस्क। बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने एक बार फिर प्रवासी श्रमिक और मजदूरों के लिए आवाज उठाई है। बसपा सुप्रीमो मायावती ने इस बार केंद्र सरकार और महाराष्ट्र सरकार के बीच जारी विवाद को लेकर अपनी बात रखी है। मायावती ने भाजपा और कांग्रेस दोनों पार्टियों पर निशाना साधते हुए कहा है कि चाहे किसी की भी पार्टी हो लेकिन लॉक डाउन में श्रमिक मजदूर पिस रहे हैं। मायावती ने कहा कि सरकार एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगाने के बजाय इन प्रवासियों पर ध्यान दें और इन्हें सुरक्षित घर पहुंचाए। दरअसल, बसपा सुप्रीमो मायावती ने ट्वीट करते हुए लिखा- केन्द्र व महाराष्ट्र सरकार के बीच विवाद के कारण लाखों प्रवासी श्रमिक अभी भी बहुत बुरी तरह से पिस रहे हैं जो अति-दुःखद व दुर्भाग्यपूर्ण। जरूरी है कि आरोप-प्रत्यारोप छोड़कर इन मजलूमों पर ध्यान दें ताकि कोरोना की चपेट में फंसकर इन लोगों की जिन्दगी पूरी तरह बर्बाद होने से बच सके।

बसपा सुप्रीमो ने आगे लिखा- वैसे भी चाहे बीजेपी की सरकारें हों या फिर कांग्रेस पार्टी की, कोरोना महामारी व लम्बे लाॅकडाउन से सर्वाधिक पीड़ित प्रवासी श्रमिकों व मेडिकलकर्मियों के हितों की उपेक्षा व प्रताड़ना जिस प्रकार से लगातार की जा रही है वह भी उचित व देशहित में कतई नहीं है। सरकारें तुरन्त ध्यान दें। 

बता दें कि श्रमिक स्पेशल ट्रेनों को लेकर केंद्र सरकार और महाराष्ट्र सरकार के बीच विवाद लगातार बढ़ता ही जा रहा है। महाराष्ट्र सरकार ने केंद्र सरकार पर आरोप लगाया है कि प्रवासियों को उनके घर भेजने के लिए पर्याप्त ट्रेनें उपलब्ध नहीं करवाई जा रही हैं। वहीं, केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल का कहना है कि हमने ठाकरे सरकार को ट्रेनें उपलब्ध करवा दी हैं लेकिन हमें प्रवासियों की सही संख्या के बारे में जानकारी नहीं दी जा रही है।