कल से शुरू हो रहा है नौतपा, जानिए इसका ज्योतिष और वैज्ञानिक नजरिया

0
70

जयपुर: मंगलवार को रोहिणी नक्षत्र (Rohini nakshatra) में सूर्यदेव के प्रवेश से नौतपा भी प्रारंभ हो जाएंगे. इस बार 25 मई से शुरू होने वाले नौतपा (Nautapa) में गर्मी खूब झुलसाएगी. नौतपा से आशय सूर्य का नौ दिनों तक अपने सर्वोच्च ताप में होना है यानि इस दौरान गर्मी अपने चरम पर होती है. नौतपा के 9 दिन आगे आने वाले मानसून की दिशा तय करते हैं. इन नौ दिनों में बारिश (Rain) न हुई या ठंडी हवाएं न चलीं तो यह आने वाले दिनों में अच्छी बारिश का सूचक है. वहीं इसके उलट अगर नौतपा में बारिश हो जाए तो आगे बारिश में व्यवधान आने की आशंका बनी रहती है. सूर्य जब रोहिणी नक्षत्र में 15 दिनों के लिए आता है तो उन पंद्रह दिनों में से पहले 9 दिन बहुत तेज गर्मी वाले होते हैं. इन्हीं शुरुआती नौ दिनों को नौतपा के नाम से जाना जाता है. इस बार नौतपा के दौरान वृषभ राशि में चार ग्रहों की युति होने से गर्मी का असर ज्यादा होने की संभावना जताई जा रही है. इसके साथ ही इन दिनों तेज गर्म हवाएं चलेंगी. ज्योतिष के अनुसार नौतपा के दौरान धरती पर सूर्य की किरणें सीधी लम्बवत पड़ती हैं. जिस कारण तापमान अधिक बढ़ जाता है. यदि नौतपा के सभी दिन पूरे तपें, तो यह अच्छी बारिश का संकेत होता है. नौपता पर क्या कहता है विज्ञान:विज्ञान के अनुसार नौतपा के दौरान सूर्य की किरणें सीधी पृथ्वी पर आती है. इस कारण तापमान बढ़ता है. अधिक गर्मी के कारण मैदानी क्षेत्रों में निम्न दबाव का क्षेत्र बनता है जो समुद्र की लहरों को आकर्षित करता है. इस कारण ठंडी हवाएं मैदानों की ओर बढ़ती है. चूंकि समुद्र उच्च दबाव वाला क्षेत्र होता है इसलिए हवाओं का यह रूख अच्छी बारिश का संकेत देता है.बदलेगी ग्रहों की चाल:इस दौरान ग्रहों की चाल भी बदलती है. 30 मई को बुध ग्रह वक्री होगा, जिसके दो दिन बाद ही शुक्र भी बुध का साथ छोड़ देगा. इससे पहाड़ी क्षेत्रों में वर्षा का योग बनने की संभावना है. ज्योतिष के अनुसार इस साल का राजा मंगल है और मंगल के पास ही ​बारिश का विभाग भी है, जो