Marudhar Desk: गुरुवार को राजधानी जयपुर के शहीद स्मारक पर राजस्थान के बेरोजगार युवाओं के समर्थन में आए सीआरपीएफ के असिस्टेंट कमांडेंट विकास जाखड़ और अन्य युवाओं के साथ पुलिस ने धक्का मुक्की की और उन्हें हिरासत में ले लिया गया। जिसके बाद प्रदेश की सियासत गरमा गई है। हमेशा युवाओं की आवाज़ उठाने वाले राज्यसभा सांसद किरोड़ी लाल मीणा ने एक बार फिर सरकार को कटघरे में खड़ा कर दिया है और कहा है कि युवा पीढ़ी इस अत्याचार का समय आने पर माकूल जवाब देगी। राज्यसभा सांसद डॉ. किरोड़ी लाल मीणा ने आरोप लगाया है कि शौर्य चक्र से सम्मानित असिस्टेंट कमांडेंट विकास जाखड़ को पुलिस ने बर्बर रवैया अपनाते हुए गिरफ्तार किया है। भर्ती परीक्षाओं में गड़बडिय़ों से आहत जाखड़ लोकतांत्रिक तरीके से धरना देना चाहते थे, लेकिन उनके सम्मान का जरा भी ख्याल नहीं रखा गया। डॉ. मीणा ने कहा कि शहीद स्मारक पर शांतिपूर्वक धरने पर बैठे बेरोजगारों पर लाठीचार्ज सरकार के बर्बर होने की निशानी है। युवा पीढी इस अत्याचार का समय आने पर माकूल जवाब देगी। इस सरकार के ताबूत में आखिरी कील युवा ही ठोकेंगे। भर्ती परीक्षाओं में गड़बड़ियों से आहत शौर्य चक्र विजेता असिस्टेंट कमांडेंट विकास जाखड़ लोकतांत्रिक तरीके से धरना देना चाहते थे, लेकिन अशोक गहलोत सरकार की पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया। सरकार उस हर कदम से घबराती है जो उसके संरक्षण में चल रहे नकल गिरोह को बेनकाब करे। युवा पीढ़ी अत्याचार का समय आने पर माकूल जवाब देगी। इस पूरे मामले पर अब भाजपा ने भी गहलोत सरकार को घेरना शुरु कर दिया है। इधर, पूर्व केबिनेट मंत्री और भाजपा नेता राजेंद्र राठौड़ ने इस प्रकरण में राज्स सरकार की निंदा की है। उन्होंने ट्विट करते हुए लिखा कि प्रदेश में भर्ती परीक्षाओं में धांधली को लेकर बेराजगारों की आवाज उठाने के लिए शहीद स्मारक पहुंचे शौर्य चक्र विजेता विकास जाखड़ सहित अन्य अभ्यर्थियों पर लाठीचार्ज एवं उन्हें हिरासत में लेना दुर्भाग्यपूर्ण है। रीट अभ्र्यर्थियों की मांग पर सरकार अपने विधायकों की भी नहीं सुन रही है।