जालोर जिले में निजी विद्यालय के संचालकों एवं जिला निजी विद्यालय संघ के बैनर तले मुख्यमंत्री के नाम जिला कलेक्टर को ज्ञापन सौंपकर आक्रोश जताया। ज्ञापन में स्कूल संचालकों ने बताया कि कोरोना महामारी से हर कोई प्रभावित हुआ है। निजी संचालकों ने बताया कि गत दो सत्रों से स्कूलें बंद के चलते आर्थिक संकट से गुजरना पड़ रहा है। वहीं सरकारी स्कूलों में बिना किसी दस्तावेजों के विद्यार्थियों को प्रवेश दिया जा रहा है। इस दौरान बकाया फीस चुकाने की स्थिति में कई अभिभावक विद्यार्थियों को अनयंत्र सरकारी स्कूलों में बिना दस्तावेज प्रवेश दिलवा रहे हैं। इस कारण निजी स्कूलों की बकाया फीस डूब रही है और आर्थिक संकट और अधिक गहराता जा रहा है। जिसको लेकर उन्होंने सरकारी स्कूलों में बिना किसी वैध दस्तावेज अथवा टीसी के प्रवेश नहीं देने की मांग की। वहीं निजी स्कूलों में फीस माफी आदि के आदेश वापस लेकर राहत देने की मांग की। साथ ही अब मॉडिफाइड अनलॉक होना शुरू हो गया है, तो विद्यालयों को भी अनलॉक कर शिक्षण गतिविधियां सुचारू करने का आदेश करवाने की मांग की। जिससे स्कूल संचालकों को राहत प्रदान हो सके। इस अवसर पर पूर्व जिला अध्यक्ष केएन भाटी उपाध्यक्ष तेनसिंह परमार प्रदेश प्रतिनिधि किशोरसिंह राजपुरोहित सहित जिलेभर से समस्त निजी विद्यालय संचालक उपस्थित रहे।