जयपुर के झोटवाड़ा इलाके में बुधवार को लोहे के पीपे (टीन) बनाने की फैक्ट्री में 75 वर्षीया मालकिन की संदिग्ध मौत का मामला सामने आया है जो की हत्या से जोड़कर देखा जा रहा था। अज्ञात मुल्ज़िम का पता लगाने के लिए पुलिस द्वारा टीम गठित कर घटना स्थल का निरक्षण किया गया आस पास लगे CCTV कैमरे की फुटेज प्राप्त की गयी फैक्टरी में काम करने वाले कर्मचारियों से पूछताछ की गयी साधिग चालक बलवीर सिंह और कर्मचारी पूछताछ की गयी तो बलवीर सिंह गुमराह करता रहा प्राप्त CCTV और मोबाईल डिटेल्स आदर पर फिर से पूछताछ की गयी उसपर बलवीर सिंह ने बताया की मेरे चाचा चैन सिंह को बुलाकर पैसे के लालच में आकर पीपा फैक्टरी की मालकिन की हत्या करवाई घटना के समय में फैक्टरी कर्मचारी राकेश को पिलाने ले गया पीछे से चैन सिंह ने पी छे से वारदात को अंजाम दिया।
जानकारी के मुताबिक मृतका निर्मला खेमका झोटवाड़ा की शालीमार चौराहे के पास में लोहे के पीपे बनाने की फैक्ट्री है। इस फैक्ट्री में तीन कमरे बने हुए है। निर्मला खेमका यहां अकेली रहती थी। जबकि उनका बेटा राजेश, बहू और बाकी परिवार शास्त्री नगर इलाके में सुभाष नगर में रहते है। वे फैक्ट्री में कामकाज पूरा होने पर रोजाना घर चले जाते। मंगलवार को भी रोजाना की तरह घर चले गए। इसके बाद निर्मला देवी फैक्ट्री में अकेली थी। बुधवार सुबह राजेश का ड्राइवर महेंद्र सुबह करीब 10 बजे फैक्ट्री पहुंचा। तब अंदर कमरे में मालकिन निर्मला फर्श पर मृत पड़ी थी। वहां खून के छींटे बिखरे हुए थे यह देखकर ड्राइवर महेंद्र ने मृतका निर्मला के बेटे राजेश को फोन कर जानकारी दी। पुलिस को सूचना दी। तब सूचना मिलने पर एसीपी झोटवाड़ा हरिशंकर शर्मा सहित एफएसएल टीम और थानाप्रभारी विक्रम सिंह भी मौके पर पहुंचे।और जांच शुरू की थी।