राज्यसभा चुनाव में माकपा विधायक को कांग्रेस को वोट देना पड़ा भारी, पार्टी ने दी यह सजा…

0
17
balwan poonia

मरूधर बुलेटिन न्यूज डेस्क। राजस्थान राज्यसभा चुनाव में माकपा पार्टी के विधायक बलवान पूनिया को कांग्रेस पार्टी को अपना वोट देना भारी पड़ गया है। भादरा विधायक बलवान पूनिया को राज्यसभा में कांग्रेस को वोट देने का बड़ा खामियाजा उठाना पड़ा है। पार्टी ने विधायक पूनिया को 1 साल के लिए सस्पेंड कर दिया है। पार्टी की राज्य इकाई ने अनुशासनहीनता के आरोप में यह कार्यवाही की है। इसके साथ ही 7 दिन के भीतर इस बात का जवाब भी मांगा है कि आखिर पार्टी की सहमति के बिना वे वोट देने क्यों गए?बता दें कि राजस्थान में माकपा के बलवान पूनिया सहित दो विधायक हैं। दूसरे विधायक गिरधारी लाल ने पार्टी के दिशा निर्देशों का पालन करते हुए 19 जून को राज्यसभा चुनाव में मतदान नहीं किया था। बता दें कि राज्यसभा चुनाव में विधायक बलवान पूनिया माकपा की ओर से नियुक्ति प्रतिनिधि संजय माधव से न तो वोट देने से पहले मिले और ना ही वोट देने के बाद मिले।

बता दें कि माकपा पार्टी के राज्य सचिव कामरेड अमर राम ने बताया था कि केंद्रीय कमेटी ने निर्णय लिया है कि उनकी पार्टी का कोई भी विधायक राज्यसभा चुनाव में मतदान नहीं करेगा। यह देश इसलिए जारी किया गया था क्योंकि माकपा के वोट से राज्यसभा चुनाव में कोई फर्क नहीं पड़ रहा था। इस आदेश में कहा गया था कि भाजपा पार्टी को हराना हमारा लक्ष्य है। कांग्रेस को जब हमारे वोट की जरूरत होगी हमें वोट तब देना था। राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस के पास जीत के लिए पर्याप्त वोट थे। इसलिए हमने निर्णय लिया था कि हम राज्यसभा चुनाव में वोट नहीं करेंगे।लेकिन बलवान पूनिया ने पार्टी के दिशा निर्देशों का पालन नहीं किया। इस पूरे मामले पर माकपा विधायक बलवान पूनिया का कहना है कि भाजपा विधायकों का अहंकार बार-बार मेरी आंखो के सामने आ रहा था। हमारा लक्ष्य भाजपा को हराना था इसलिए मैं मतदान करने से खुद को नहीं रोक पाया।