सरकार और किसानों के बीच आज अहम 8वें दौर की वार्ता, अगर बैठक में नतीजा नहीं निकला तो किसानों ने दी ये बड़ी चेतावनी…

0
180

मरूधर बुलेटिन न्यूज डेस्क। कृषि कानूनों को लेकर जारी विरोध प्रदर्शनों के बीच आज यानि सोमवार को किसान संगठन और सरकार के बीच आठवें दौर की बातचीत होने जा रही है। इस बातचीत पर आज किसानों के साथ साथ पूरे देश की नजर है। बता दें कि इससे पहले सातवें दौरे की वार्ता में सरकार ने ​किसानों की चार प्रमुख मांगों में से दो पर अपनी सहमति दे दी है। जिसमें पहला है कि पराली जलाना जुर्म नहीं होगा और दूसरा- बिजली संशोधन विधेयक 2020। लेकिन, एमएसपी पर लिखित भरोसा और तीनों कृषि कानून वापसी पर अभी भी गतिरोध जारी है। लेकिन अब ऐसे में ये कयास लगाए जा रहे है कि आठवें दौरे की वार्ता में सरकार और किसान में बातचीत के द्वारा कुछ हल जरूर निकल सकता है।

बता दें कि आज यानि सोमवार को होने वाली सरकार और किसानों के बीच वार्ता में मौटे तौर पर किसानों की इसी मांग पर टीकी होगी कि सरकार अपने तीनों कृषि कानून निरस्त कर दे। साथ ही सूत्रों से मिल रही जानकारी के अनुसार किसान संगठनों ने चेतावनी दी है कि अगर उनकी मांगे पूरी नहीं हुई तो वो 26 जनवरी को मांगों को मनाने के लिए हजारों किसान अपने ट्रैक्ट्ररों के साथ राजपथ पर परेड के लिए राजधानी में आगे बढ़ेंगे।

आज होने वाली वार्ता में केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, पीयूष गोयल और सोम प्रकाश सरकार का नेतृत्व करेंगे, जबकि किसान यूनियन के 40 नेता वार्ता में किसानों का प्रतिनिधित्व करेंगे। बहरहाल बता दें कि किसान आज करीब 40 दिनों से भयंकर सर्दी और बारिश में दिल्ली की बॉर्डर पर अपनी मांगों को मनाने के लिए डटे हुए है। आज दो बजे किसान और सरकार के बीच वार्ता होगी।