Marudhar Desk: शिक्षा विभाग की मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की अध्यक्षता में हुई बैठक में टीचर्स भर्ती के पद बढ़ाने का फैसला लिया गया है। इसके तहत प्रदेश में 14 और 15 मई को REET-2022 का आयोजन किया जाएगा। राजस्थान में REET- 2022 भर्ती परीक्षा में 20 हजार शिक्षक भर्ती होंगे। हालांकि सरकार के इस फैसले के बावजूद बेरोजगारों का विरोध जारी है। उनका कहना है की सरकार वर्तमान में चल रही रीट-2021 भर्ती प्रक्रिया में ही पदों की संख्या 31 हजार से बढ़ाकर 50 हजार करे। बता दें कि पिछले लम्बे समय से प्रदेश के बेरोजगार रीट परीक्षा 2021 में 31 हजार से बढाकर 50 हजार करने की मांग कर रहे है। प्रदेशभर में पद बढ़ाए जाने के साथ ही भर्ती विज्ञप्ति जारी करने की मांग को लेकर बेरोजगार लगातार सरकार के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन कर रहे हैं। जिनके समर्थन में विपक्ष के साथ ही पूर्व उपमुख्यमंत्री से लेकर सरकार के MLA और सलाहकार भी मुख्यमंत्री को पद बढ़ने के लिए पत्र लिख चुके है। ऐसे में मुख्यमंत्री की यह घोषणा बेरोजगार युवाओं के आंदोलन को रोकने के साथ ही अपनों को भी खुश करने की कोशिश बताई जा रही है। सरकार के निर्णय के बाद भी बेरोजगार 2021 में हुई रीट भर्ती परीक्षा के ही पद बढ़ाकर 50,000 करने की मांग पर अड़े हुए हैं। बेरोजगारों का कहना है कि सरकार के इस फैसले से लाखों बेरोजगारों के भविष्य के साथ खिलवाड़ होगा। क्योंकि 3 साल के लंबे अंतराल के बाद रीट भर्ती परीक्षा का आयोजन किया गया था। ऐसे में उनकी आयु सीमा खत्म हो जाएगी। वहीं लंबे समय से की गई तैयारी पर भी पानी फिर जाएगा। इसलिए सरकार पुरानी भर्ती प्रक्रिया में ही पदों की संख्या में इजाफा कर 50000 करें। लेकिन अगर सरकार ने ऐसा नहीं तो आने वाले वक्त में सरकार को इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा।