अलीगढ़ : ‘कोई दोष नहीं, कोई कसूर नहीं, कोई कमी नहीं। सारी जिम्मेदारी मैं अपने ऊपर लेता हूं सीधा। कहीं कोई दंड देना हो तो किसी को ना देकर मुझे दिया जाए।’ ये कहने वाले उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री व राजस्थान के पूर्व राज्यपाल कल्याण सिंह सोमवार को पंचतत्व में विलीन हो गए। उनका अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान के साथ बुलंदशहर जिले के नरौरा राजघाट पर हुआ। उनके अंतिम संस्कार में सीएम योगी, गृहमंत्री अमित शाह और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह समेत कई बड़े नेता शामिल हुए। कल्याण सिंह का 21 अगस्त को निधन हो गया था। वो 89 साल के थे और पिछले करीब डेढ़ महीने से अस्पताल में भर्ती थे। कल्याण सिंह बीजेपी के नेताओं के लिए बाबूजी के तौर पर सम्मानित थे, लेकिन राजनीति का उनका कद ऐसा था कि धुर विरोधी मुलायम सिंह यादव हों या मायावती,  उत्तर प्रदेश की राजनीति में उनकी राजनीतिक हैसियत को समझा। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से लेकर राजनाथ सिंह, उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ, उत्तराखंड सीएम पुष्कर सिंह धामी, मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान सहीत अनेक लोग मौजूद हैं। अमित शाह ने कल्याण सिंह के भावुक बेटे राजवीर सिंह को सांत्वना दी। अमित शाह ने कहा कि कल्याण सिंह का जाना बीजेपी के लिए बड़ी क्षति है जिसकी लंबे समय तक भरपाई नहीं हो पाएगी।