…तो इस कारण 8 मई को मनाया जाता है वर्ल्ड रेड क्रॉस डे, भारत में इस साल हुआ इसका गठन!

0
70
red cross day

मरूधर बुलेटिन न्यूज डेस्क। कोरोना वायरस के कहर के बीच आज दुनियाभर में रेड क्रॉस डे मनाया जा रहा है। हालांकि लॉकडाउन के चलते इसे बहुत ही सादगी से मनाया जा रहा है। बता दें कि रेड क्रॉड डे हर साल 8 मई को ही मनाया जाता है। लेकिन क्या आप जानते हो कि इसे आठ मई को ही क्यों बनाया जाता है। अगर आप नहीं जानते तो आइए बताते इस दिन ही रेड क्रॉस मनाने के पीछे की कहानी…

रेड क्रॉस डे 8 मई को हेनरी डुनेंट की जयंती पर मनाया जाता है, जो रेड क्रॉस की अंतर्राष्ट्रीय समिति के संस्थापक थे। इस संस्थान का मुख्य उद्देश्य मूल रूप से किसी भी समय और परिस्थितियों में सभी प्रकार की मानवीय गतिविधियों को प्रेरित करना, आरंभ करना और प्रोत्साहित करना है। मानवीय जीवन और स्वास्थ्य की सुरक्षा के मिशन के साथ साल 1863 में स्थापित संगठन रेड क्रॉस अपने वॉलेंटियर वर्क यानी स्वयंसेवा के लिए जाना जाता है। तीन बार नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित इस संस्था का मुख्यालय स्विटजरलैंड के जेनेवा में स्थि​त है।

यह संस्था युद्ध और शांति के समय दुनियाभर के देशों की सरकारों के बीच समन्वय का काम करती है। मानव सेवा के साथ ही ये संस्था प्राथमिक सहायता, आपातकाल में मदद, हेल्थ और समाज सेवा में मदद करता है। इसके अलावा यह संस्था ब्लड बैंक से लेकर विभिन्न तरह की स्वास्थ्य और समाज सेवाओं में अपनी अहम भूमिका निभाता है। रेड क्रास सोसायटी के 7 प्रमुख सिद्धांत हैं, निष्पक्षता, मानवता, स्वतंत्रता, तटस्थता, एकता, स्वैच्छिक, सार्वभौमिकता है। वहीं इस सोसाइटी का नारा है, अपने अन्दर के स्वयं सेवक को पहचानें। दरअसल, प्रथम विश्व युद्ध के बाद फैली त्रासदी और सैनिकों की लाशों के साथ किए गए अमानवीय बर्तावों को देखते हुए एक ऐसी संस्‍था की जरूरत महसूस की गई जो ऐसी स्थिति में बिना भेदभाव के काम कर सके। भारत में इस संस्था का गठन 1920 में हुआ था।