कोरोना महामारी में राजस्थान में कई गुना तेजी से बढ़ रही संक्रमण की रफ्तार में स्वास्थ्य सेवाएं चरमरा गई हैं। यहां कोरोना पेंशेंट्स के लिए बेड और ऑक्सीजन की किल्लत इतनी हो गई है कि अस्पतालों के गेट बंद कर दिए गए हैं। यहां ताले लगे हैं। नए पेशेंट को भर्ती करने के लिए जगह नहीं बची है। लिहाजा अब लोग ऑक्सीजन के लिए तड़पते हुए अस्पतालों के गेट पर ही दम तोड़ने लगे हैं।ऐसा ही दर्दनाक हादसा जयपुर में देखने को मिला। प्रदेश के सबसे बड़े SMS अस्पताल में शनिवार शाम 6 बजे 25 साल की एक महिला ने अपने भाई और आसपास लाचार खड़े लोगों की आंखों के सामने तड़पते हुए दम तोड़ दिया। वह हॉस्पिटल के गेट पर एक बैंच पर बैठे-बैठे हाथ जोड़कर कहती रही कि मेरा दम घुट रहा है, मैं मर जाऊंगी, मुझे बचा लो। उसे भर्ती करने के लिए इमरजेंसी के गेट नहीं खुले और उसकी करीब 15 मिनट के भीतर मौत हो गई।इस घटना को देख परेशान हुए लोगों में आक्रोश पैदा हो गया। इनमें कुछ लोगों ने सोशल मीडिया पर इसका लाइव वीडियो चला दिया। इस मामले में SMS अस्पताल अधीक्षक डॉ. राजेश शर्मा का कहना है कि इस घटना की सत्यता की जांच करवाएंगे।